Naradsamvad

मुख्यमंत्री जी! थाना प्रभारी से नहीं संभल रही कोतवाली, लगातार बढ़ रहे है अवैध कब्जे व चोरी की घटनाएं, दबंगों के हौसले बुलंद, चर्चाओं का बाजार गर्म! 

 

 

 

 ब्यूरो रिपोर्ट/कृष्ण कुमार शुक्ल नारद संवाद न्यूज बाराबंकी

 बाराबंकी। शहर कोतवाली में जब से नये इंचार्ज आएं तब से घटनाओं की बाढ़ सी आ गई है, क्षेत्र में चोरों के हौसले इतने बुलंद हो गये हैं कि अब मोबाइल से बात करना भी खतरे से खाली नहीं रह गया है, मालूम हो कि संधू कालोनी, बटाला रोड, अमृतसर निवासी मनप्रीत सिंह थाना कोतवाली क्षेत्र के सेवक लान क्षेत्र में अपने मित्र की शादी में शामिल होने आया था कि लान के गेट के समाने अपनी पत्नी से बात करने लगा तभी दो बाइक सवार अज्ञात व्यक्ति आये और मोबाइल छीनकर भाग गये।वहीं मंदिर के प्रबंधक व अधिक्ता राजेश कुमार को अवैध कब्जा करने वालों से सरे आम मारा पीटा, जिससे प्रतीत होता है कि शहर में कानून व्यवस्था का दबंगों व चोरों के दिलों में जरा भी खौफ नहीं दिख रहा है। वहीं पुलिस लाइन चैराहा, स्टेशन रोड, निकट देसीआन रेस्टोरेंट, थाना कोतवाली नगर, तहसील नवाबगंज, बाराबंकी में स्थित मंदिर ‘‘श्री जंगलेश्वर शिव हनुमान मंदिर’’ के प्रबंधक राजेश कुमार, एडवोकेट सुबह मंदिर की साफ सफाई मजदूर के द्वारा करवा रहे थे तभी अरविन्द्र उर्फ टिंकू पुत्र कन्हैयालाल व रवि प्रकाश उर्फ लकी पुत्र कन्हैयालाल व संजय पुत्र कन्हैयालाल व जमुना प्रसाद पुत्र नत्थाराम यादव व संतोष कुमारी पत्नी मनोज कुमार व ऊषा देवी पत्नी जमुना प्रसाद व मुन्ना पुत्र कैलाश व हिमांशु पुत्र अज्ञात व मेडिकल स्टोर संचालक मनोज यादव निवासी सिविल लाइन्स, पुलिस लाइन चैराहा, थाना कोतवाली नगर, बाराबंकी एकराय होकर आये मजदूर को ढकेल दिया तथा मारपीट कर भगा दिया तथा प्रार्थी को गंदी-गंदी गालियां देते हुए कहा कि हम वकीलों से नहीं डरते हैं और थप्पड़ों से मारा-पीटा।जिसकी शिकायत जिले के उच्चाधिकारियों से की गई।ज्ञात हो कि जब से थाना इंचार्ज अजय कुमार त्रिपाठी आये हैं तब से शहर में लगातार जाम की स्थिति बढ़ गई और चोरी की घटनाओं में लगातार इजाफा होता जा रहा है। अब तो लोग अपने घरों से निकलने से पहले कीमती वस्तुओं को छिपाकर चलने लगे हैं।पूर्व कोतवाल के समय त्वरित कार्यवाही होने से अवैध कब्जेदारों के हौसले पस्त थे।लेकिन जब से नये इंचार्ज आये हैं तब से शहर में कई जगह अवैध निर्माण धड़ाधड़ चल रहा है। शिकायत करने पर कोतवाली पुलिस अपना पल्ला झाड़ लेती है और कहती है कि फलां मैटर राजस्व का है, राजस्व वाले बताते हैं कि हमको पुलिस बल नहीं मिल रहा है तो अवैध निर्माण कैसे रूकवाया जाये।

अन्य खबरे

गोल्ड एंड सिल्वर

Our Visitors

16979
Total Visitors
error: Content is protected !!