Naradsamvad

पड़ोसी देश नेपाल के द्वारा सरयू नदी में लाखों क्यूसेक पानी छोड़े जाने से नदी खतरे के निशान से 49 सेंटीमीटर ऊपर बह रही

 

घाघरा नदी का जलस्तर बढ़ने से तराई क्षेत्र में रह रहे ग्रामीणों की मुश्किलें बढ़ी

रामनगर बाराबंकी। पड़ोसी देश नेपाल के द्वारा रविवार को बनबसा बैराज शारदा बैराज से शारदा नदी में लाखों क्यूसेक पानी छोड़े जाने से सरयू नदी का जल स्तर बढ़ गया है। जलस्तर बढ़ने से बांध के किनारे रह रहे दर्जनों ग्राम के हजारों ग्रामीण चिंतित हैं। तहसील रामनगर के ग्राम तपेसिपाह के कोरिन पुरवा के मुहाने पर बाढ़ का पानी आ गया है धीरे-धीरे सरयू नदी उफना रही है। कोरिन पुरवा निवासी सुनील कुमार ने बताया घाघरा नदी धीरे-धीरे बढ़ रही है,अभी हमारे घरों में पानी नहीं आया बांध के किनारे मुहान पर नदी का पानी है।बता दे घाघरा सरयू नदी के बाढ़ से तहसील रामनगर के बांध के किनारे तराई में दुर्गापुर, सिसौंडा, मल्लाहन पुरवा,नया पुरवा,परसादी पुरवा,जैन पुरवा,बहलोल पुर,चेचरी लहड़रा, मढ़ना, एमा,हरी नारायणपुर,केशिया पुर,,मथुरा पुरवा, लोहटी जई, लोहटी पसई मीतपुर,निजामुद्दीनपुर, गोबरहा आदि ग्रामों में नदी का जल स्तर बढ़ने से ग्रामों में बाढ़ का पानी घुस जाता है जिससे ग्रामीणों का जीवन अस्त व्यस्त हो जाता है। तहसील प्रशासन के द्वारा प्रत्येक ग्राम सभा में नजर रखी जाती है।ग्रामीणों को बाढ़ के पानी से बाहर निकलने के लिए बाढ़ पीड़ित गांव में एक एक नांव दी जाती है। शासन प्रशासन के द्वारा ग्रामीणों को बाढ़ राहत सामग्री समय-समय पर वितरित की जाती है। जिलाधिकारी के शख्त निर्देशों के कारण एस डी एम,तहसीलदार, कानून गो, लेखपाल ,स्वास्थ्य टीम, हर समय क्षेत्र में रहती है, जिससे ग्रामीणों को कोई परेशानी नहीं होती है। जो ग्रामीण भूख व्यास के मारे बाढ़ में फंसे होते हैं उनके लिए भोजन की व्यवस्था तहसील प्रशासन के द्वारा की जाती है।

बता दें बीते रविवार को 4 लाख क्यूसेक पानी सरयू नदी में छोड़ा गया था जिसके चलते नदी तेजी से बढ़ने लगी, इसी वजह से सरयू का जलस्तर सोमवार को 106.216 सेंटीमीट हो गया। जो खतरे के लाल निशान से 15 सेंटीमीटर ऊपर नदी बह रही है। सरयू नदी प्रति घंटे 2 सेंटीमीटर की रफ्तार से बढ़ रही थी। वही विकासखंड सूरतगंज के हेतमापुर, कोडरी,लालपुर करौता,सुंदरनगर, लल पुरवा ,बाबा पुरवा , करमुल्लापुर, पुरैना,हंसराम पुरवा,हाता रतनपुर,ग्राम के पास बाढ़ का पानी पहुंच गया है। अगर इसी तरह नदी का जलस्तर बढ़ता रहा तो धीरे-धीरे सरयू नदी के बाढ़ का पानी गांवों में घुसना शुरू हो जाएगा और नदी कटान भी कर सकती है। बाढ़ खंड के कर्मचारी विवेक चौधरी ने बताया मंगलवार की दोपहर के 2:00 बजे का सरयू नदी का जलस्तर 106.566 है, जो खतरे के निशान से आधा सेंटीमीटर नदी ऊपर बह रही है।

अन्य खबरे

गोल्ड एंड सिल्वर

Our Visitors

201106
Total Visitors
error: Content is protected !!