Naradsamvad

डीएम ऑफिस के सामने आत्मदाह का प्रयास, रिश्वत मांगने का आरोप डीएम ने लिया संज्ञान सचिव निलंबित

कृष्ण कुमार शुक्ल /अब्दुल मुईद
बाराबंकी, एक तरफ भ्रष्टाचार खत्म करने का दावा किया जा रहा है तो वहीं बाराबंकी में आज हुई घटना ने भ्रष्टाचार की पोल खोल दी, प्रधानमंत्री आवास योजना की पहली किस्त मिलने के बाद घोषित अपात्र को बुधवार को डीएम कार्यालय पहुंचा। जिलाधिकारी से मिलने के बाद बाहर निकले युवक ने अपने परिजनों के सामने आग लगाकर आत्मदाह का प्रयास किया। इसके बाद हड़कंप मच गया।आननफानन में शिकायतकर्ता को निजी वाहन से प्रशासन के अधिकारी व कर्मचारी लेकर फरार हो गए।

रामनगर ब्लॉक के डीह मजरे अशोकपुर चाचू सराय का है। यहां के निवासी जाहिदा खातून पत्नी जुबेर का आरोप हैं कि उसे प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत वास की पहली किस्त के रुप में 40 हजार रुपए 29 सितंबर 2023 को मिले थे। जिससे उसके द्वारा निर्माण कार्य शुरू कराया गया। मगर जियो टैग के फेर में दूसरी किस्त नही मिली। इसको लेकर पंचायत सचिव ने 10 हजार रुपए की रिश्वत मांगी। इस पर दो अन्य लोगो के आवास का जियो टैग कर किस्त जारी कर दे गई। वही 12 जनवरी को तहसील की टीम पहुंची और उसे अपात्र घोषित कर दिया। बुधवार को जाहिदा खातून अपने पति जुबेर और बच्चो के साथ कलेक्ट्रेट पहुंच कर डीएम से मिली l जहां से बाहर निकलते ही जुबेर ने आग लगाकर आत्महत्या का प्रयास किया। यह देख डीएम ऑफिस के सामने खड़े सुरक्षा कर्मियों ने दौड़कर आग बुझाई। उसके बाद शिकायतकर्ता को दोबारा डीएम के पास ले गए। जहा से उसे निजी वाहन से प्रशासन के अधिकारी और कर्मचारी कहीं लेकर फरार हो गए।सूचना पर पहुंची एंबुलेंस खड़ी पीड़ित को तलाशती रह गई।
अतिरिक्त मजिस्ट्रेट चन्द्रकांत ने बताया कि जुबेर को प्रधानमंत्री आवास आवंटित किया गया था। जिसकी पहली किश्त जारी की गई थी। जिससे उसने रास्ते की जमीन पर आवास बनाना शुरू कर दिया।जिस पर दूसरी किस्त रोक दी गई।इसी बात को लेकर वह आक्रोशित था।
यह भी पढ़े:
कलेक्ट्रेट परिसर बाराबंकी में विकास खंड रामनगर के ग्राम डीह निवासी जुबैर द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत द्वितीय किस्त की मांग के सम्बंध में शिकायत करते हुए आत्मदाह का प्रयास किया गया जिसे मौके पर उपस्थित कर्मियों द्वारा तत्परता से रोकते हुए एवं प्राथमिक उपचार कराते हुए शिकायत कर्ता को सकुशल उसके घर तक पहुंचा दिया गया।
खंड विकास अधिकारी, रामनगर की आख्या अनुसार लाभार्थी श्री जुबैर द्वारा प्रधानमंत्री आवास के प्रथम किस्त की धनराशि से अपने व्यक्तिगत आवासीय पट्टे की भूमि पर आवास का निर्माण न करा कर ग्राम समाज के रास्ते की भूमि पर आवास का निर्माण किया जा रहा था। जिसका ग्राम सभा के लोगों के द्वारा विरोध करते हुए माननीय उच्च न्यायालय में अतिक्रमण हटाए जाने के सम्बंध रिट याचिका भी की गई थी। तहसीलदार, रामनगर की आख्या अनुसार जिस स्थान पर प्रधानमंत्री आवास का निर्माण प्रारंभ किया गया है, वह गाटा संख्या 246/398 रकबा 0.228 हेक्टेयर के रूप में रास्ते के रूप में दर्ज अभिलेख है तथा उक्त का वाद न्यायालय तहसीलदार, रामनगर में विचाराधीन है। विकास खंड द्वारा इसी रिपोर्ट के आधार पर योजना की द्वितीय किस्त को अवरुद्ध कर दिया गया था।
प्रकरण में शिकायतकर्ता की स्थिति के दृष्टिगत समस्या का समाधान कराने की नियमानुसार कार्यवाही की जा रही है तथा आंत्योदय राशन कार्ड, आयुष्मान कार्ड उपलब्ध कराने की प्रक्रिया भी कराई जा रही है। शिकायतकर्ता की शिकायत के आधार पर ग्राम पंचायत सचिव के विरुध्द विभागीय कार्यवाही संस्थित कर दी गई है एवं मामले की गंभीरता के दृष्टिगत प्रकरण में प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराते हुए विवेचना भी प्रारंभ कर दी गई है।
जिलाधिकारी बाराबंकी सत्येंद्र कुमार ने बताया शिकायतकर्ता की शिकायत पर सचिव को निलंबित कर दिया गया है।वही प्रार्थी को प्रधानमंत्री आवास बनाने के लिए पट्टा दिया जाएगा।और राशन कार्ड,आयुष्मान कार्ड उनके परिवार वालों को कंबल का वितरण किया जाएगा इस प्रकरण की जांच की जा रही है कार्रवाई सुनिश्चित की गई है।

अन्य खबरे

गोल्ड एंड सिल्वर

Our Visitors

17212
Total Visitors
error: Content is protected !!