Saturday, April 20, 2024
HomeLatest Newsमहाशिवरात्रि पर्व पर लोधेश्वर महादेवा में करीब पांच लाख श्रद्धालुओं ने किया...

महाशिवरात्रि पर्व पर लोधेश्वर महादेवा में करीब पांच लाख श्रद्धालुओं ने किया जलाभिषेक

एडिशनल एसपी आशुतोष मिश्रा गर्भ ग्रह में शिव भक्तों को दर्शन कराते हुवे

 

 

 

 

बम बम भोले के उद्घोष से पूरा लोधेश्वर महादेवा गूंज उठा

 

रामनगर: 18 फरवरी को भूतभावन भगवान देवो के देव महादेव श्री लोधेश्वर महादेवा की तीर्थनगरी में महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर आस्था का सैलाब उमड़ पड़ा। ऐतिहासिक पौराणिक शिवलिंग पर जलाभिषेक करने के लिए श्रद्धालुओं की बैरिकेडिंग में लंबी कतार लगी रही। घंटो लाइन में इंतजार करने के बाद शिवभक्तों ने पूरे श्रद्धाभाव से भगवान शिव का विल्व पत्र धतूरा भांग पुष्प माला चढ़ाकर लोधेश्वर शिवलिंग का जलाभिषेक किया। जलाभिषेक का यह सिलसिला शनिवार की रात तक चलता रहा। इस दौरान पूरा इलाका ‘हर हर महादेव..बम बम भोले..के जयघोष से गूंज उठा। तहसील प्रशासन पुलिस प्रशासन के आकड़ों के अनुसार महाशिवारात्रि पर करीब पांच लाख श्रद्धालुओं ने भगवान शिव का जलाभिषेक किया। श्रद्धालुओं की सुरक्षा-व्यवस्था को लेकर उत्तरी एएसपी आशुतोश मिश्र स्वयं लोधेश्वर के गर्भग्रह में कमान संभालकर सक्रियता बनाए रहे। एसडीएम तान्या सिंह मंदिर परिसर में कैंप कर व्यवस्थाओं का जायजा लेती रही। 

   महाशिवरात्रि पर अपने आराध्य देव का जलाभिषेक करने के लिए एक सप्ताह पहले से ही तीर्थ नगरी में कांवड़ियों के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया था। भीड़ के मद्देनजर प्रशासन ने कांवड़ श्रद्घालुओं की सुरक्षा-व्यवस्था को लेकर कड़े बंदोबस्त किए थे। 5 सीओ 120 दरोगा 200 होमगार्ड,समेत करीब एक हजार पुलिस कर्मियों की तैनाती लोधेश्वर मेला में रही। 12 सीसीटीवी कैमरे से निगरानी के अलावा हर हालात से निपटने के लिए प्रशासन ने मेडिकल सुविधा डॉग स्कवॉड,एंबुलेंस व ट्रैफिक पुलिस की अलग से तैनाती रही। मंदिर के पुरोहितों ने रात 12 बजे भगवान शिव की पूजा-अर्चना की। इसके बाद मंदिर के कपाट श्रद्धालुओं के लिए लगातार खोल दिए गए। शिवभक्तों ने गंगा जल, इत्र, गुलाल , दूध, सहद दही आदि से शिवलिंग का अभिषेक किया।

लोधेश्वर महादेवा मेला भक्ति आस्था और विश्वास का संगम!

उत्तरप्रदेश में प्रसिद्ध महाभारत कालीन श्री लोधेश्वर महादेवा का मेला आस्था और विश्वास का संगम है। यहां की शिवलिंग का इतिहास महाभारत काल से जुड़ा हैं। जो श्रद्धालुओं को अपनी और खींचकर आकर्षित करता है। महाशिवरात्रि पर लोग दूर दराज से नंगे पांव गंगा जल वीकांवड़ लेकर आते हैं। ऐसा कहा जाता है कि शिव भक्त कांवर के माध्यम से पवित्र गंगा का जल लाकर भगवान शिव को चढ़ाते हैं। भगवान शिव श्रद्धालुओं की हर मनोकामना पूर्ण करते हैं।

 

24 घंटे महादेवा मेला में नजर बनाए रखी एस डी एम तान्या व सीओ बीनू सिंह

लोधेश्वर महादेवा के कावण मेला शांति पूर्ण सम्पंन हो गया। पहली बार मेले को शकुशल सम्पंन कराने की जिम्मेदारी एसडीएम तान्या सिंह व सीओ बीनू सिंह के कंधो पर थी। यह पहला मौका भी था जब एसडीएम और सीओ के पद पर महिला अफसरों की तैनाती है। फिलहाल इन अफसरों ने महादेवा महोत्सव के बाद कांवड़ मेला भी शांति पूर्ण तरीके से सम्पंन करा कर मिशाल पेश की। एसडीएम एक सप्ताह से लगातार मेला परिसर में कैंप कर सुरक्षा-व्यवस्था की जिम्मेदारी संभाले रही। इस दौरान एसडीएम मेले को लेकर 24 घंटे सक्रिय रही।

अन्य खबरे

यह भी पढ़े