सी.ओ.ऑफिस के नाक के नीचे हाइवे के किनारे मानक विहीन तरीके से चलाई जा रही है शराब की दुकान

0
332

रामनगर/बाराबंकी

थाना रामनगर अंतर्गत हाइवे से सटी कई शराब की दुकानें आबकारी विभाग को चिढ़ा रही हैं।और कोर्ट के आदेश की अवहेलना भी की जा रही है। जबकि मानक के हिसाब से शराब की दुकान हाईवे से दो सौ मीटर की दूरी पर होना चाहिए।और आस पास कोई स्कूल व कॉलेज नही होना चाहिए। बताते चले सरकार की मंशा के खिलाफ बुढ़वल चौराहे पर हाईवे के किनारे नियम कानून को दरकिनार कर देशी व अंग्रेजी शराब की दुकानें संचालित हो रही हैं।विभागीय जिम्मेदार आबकारी व पुलिस जान कर भी अंजान बने हुए हैं ।ज्ञात हो कि चौराहे पर राष्ट्रीय राजमार्ग एन.एच. 28 सी के किनारे नियम कानून को धता बताकर लगभग आधा दर्जन दुकानें संचालित हो रही हैं।सरकारी प्रावधानों के अनुसार मंदिर मस्जिद स्कूल कालेजों से एक निश्चित दूरी पर ही शराब की दुकानें संचालित हो सकती हैं। लेकिन राष्ट्रीय राजमार्ग के किनारे संचालित इन शराब की दुकानों से चंद कदमों की दूरी पर भगवान देई पाटन शाह बालिका इंटर कॉलेज यूनियन इंटर कॉलेज रामनगर एस.बी. पी.एम. स्कूल सहित तीन कॉलेज हैं।जहां पर हजारों की तादाद में छात्र-छात्राएं पढ़ने आती हैं। शराब के नशे में धुत शराबी स्कूली छात्राओं पर तंज कसते रहते हैं।जिससे छात्राओं को शर्मसार होना पड़ता है। राष्ट्रीय राजमार्ग के किनारे स्थित इन दुकानों पर चार पहिया वाहनों के ड्राइवर आसानी से शराब खरीदकर नशे की हालत में ड्राइविंग करते हैं। जिससे आए दिन सड़क दुर्घटनाएं घटित हुआ करती हैं। इसके अलावा सुबह से लेकर देर रात तक शराब के शौकीन लोग अपनी बाइक व चौ पहिया वाहन सड़क मार्ग पर खड़ी कर आवागमन बाधित करते हैं।चंद कदम की दूरी पर स्थित सी.ओ. कार्यालय है। लेकिन इस शराब की दुकानों पर शराबियों का भारी जमावड़ा लगा रहता है।फर्ज अदायगी के तौर पर कभी कभार थाने के उपनिरीक्षक सड़क के किनारे खड़ी मोटरसाइकिलो का इक्का दुक्का चालान भी कर देते हैं।लेकिन दबंग व असरदार पियक्कड़ों के खिलाफ कुछ भी कार्यवाही नहीं होती है। इस संबंध में संवाददाता ने जब दूरभाष के द्वारा जिला आबकारी अधिकारी से जानकारी करनी चाही तो उनका सी.यू.जी. फोन स्विच ऑफ था।

रिपोर्ट/कृष्ण कुमार शुक्ल/विवेक शुक्ल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here