पिटारमऊ सोसाइटी के सचिव राजीव त्रिवेदी की( आत्महत्या या हत्या) के बाद 69 किसानों का 64 लाख रुपया का घोटाला

0
487

रिपोर्ट अनुराग राजू मिश्र

 

#शासन द्वारा भेजी गई जांच का जांच अधिकारी दोषियों को ही बना दिया
#AR गणेश गुप्ता,ADCO प्रह्लाद कुमार सिंह,ADO अश्वनी पांडे ,सहकारी बैंक मैनेजर अजय कुमार चौबे ने मिलकर स्व.राजीव त्रिवेदी द्वारा किसानों से खरीदा गया 26 हजार कुंतल गेंहू में से 19200 कुंतल एफसीआई भेजा बाकी 6800 कुन्तल का किया बंदरबांट
#जिस कास्तकार ने गेंहूँ बेंचा उसी नाम के दूसरे कास्तकार को गेंहूँ का भुगतान किया
(ट्रेलर के बाद पूरी वेव सीरीज बाबा नीम करौली महराज के दर्शन के बाद सोमवार से दिखाएंगे)
शाहजहांपुर((जलालाबाद)धरतीपुत्रों से
धान या गेंहूँ खरीद शुरू होने से पहले सरकार बिचौलिया मुक्त खरीद के तमाम दावे किया करती है। मगर, किसानों के साथ हरबार धोखा ही होता है।गेंहू खरीद के समय पिटारमऊ सहकारी समिति के सचिव राजीव त्रिवेदी ने गाज़ियाबाद एक होटल में आत्महत्या कर ली थी।स्व.राजीव त्रिवेदी द्वारा क्षेत्र के सैकड़ो किसानों से हजारों कुन्तल गेंहूँ खरीदा गया था।स्व.राजीव त्रिवेदी पर क्षेत्र के किसानों का बहुत विश्वास था इसीलिए न तो त्रिवेदी जी ने किसानों को खरीद की 6 R दी(खरीद पर्ची)और न ही किसानों ने उनसे मांगी लेकिन त्रिवेदी जी की मौत के बाद अधिकारियों की मिलीभगत से AR गणेश गुप्ता,ADCO प्रह्लाद कुमार सिंह,ADO अश्वनी पांडे ,सहकारी बैंक मैनेजर अजय कुमार चौबे ने मिलकर स्व.राजीव त्रिवेदी द्वारा किसानों से खरीदा गया 26 हजार कुंतल गेंहू में से 19200 कुंतल एफसीआई भेजा बाकी 6800 कुन्तल का बंदरबांट कर लिया।इसके लिए दोषियों ने 50 कास्तकारों के खातों में उसी नाम के दूसरे लोगो के खातों में गेंहूँ भुगतान का रुपया ट्रांसफर करवा कर करोड़ों रुपये का गोलमाल किया गया।माननीय मुख्यमंत्री द्वारा इस घोटाले की भेजी गई जांच भी घोटाले में लिप्त AR गणेश गुप्ता को ही सौप दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here