उप जिलाधिकारी से किसान यूनियन के पदाधिकारियों ने की मांग सौंपा ज्ञापन

0
198

रामनगर/बाराबंकी

रामनगर तहसील परिसर में किसानों ने उप जिला अधिकारी केडी शर्मा को सौंपा मांग पत्र।और प्रधानमंत्री की ओर से तीनों कृषि बिल वापस लिये जाने की घोषणा से उत्साहित भारतीय किसान श्रमिक जनशक्ति यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष अभिनंदन यादव ने प्रशन्नता व्यक्त करते हुये एम एस पी को कानूनी जामा पहनाये जाने आदि की मांगों के साथ उप जिला अधिकारी केडी शर्मा के नाम से संबोधित माग पत्र तहसीलदार सुरेन्द्र कुमार को सौंपा है।उन्होने अपने सौपे गये पत्र मे यह कहा है कि केंद्र सरकार किसानों की मांग पर तीनों किसानों बिल वापस लिये जाने की घोषणा करके किसानों के हित में कार्य किया है।लेकिन अभी भी एम एस पी को कानूनी जामा पहनाया जाना जरूरी है।इसके साथ ही दर्जनों की संख्या में पहुंचे भारतीय किसान श्रमिक जन शक्ति यूनियन के जिला प्रभारी विजय यादव ने तहसीलदार सुरेंद्र कुमार को उप जिला अधिकारी के नाम से संबोधित ज्ञापन सौंपकर मांग की।संबोधित ज्ञापन में किसानों ने उप जिला अधिकारी से पूरे क्षेत्र भर में हो रही खाद की समस्या को लेकर जल्द मदद की आशा व्यक्त की है।उन्होंने क्षेत्र में बने धान क्रय केंद्रों पर बैठे सरकारी बाबुओ और विचौलियों की साँठ-गाँठ से धान तोल होने की बात भी कही है।किसानों का आरोप है कि किसान खाद की समस्या को लेकर बहुत परेशान है।किसी भी केंद्र पर आसानी से खाद नहीं मिल पा रही हैं आगे की फसलें कैसे तैयार होंगी लगातार यह संकट किसानों के लिए बना हुआ है।उनका कहना है कि नये धान क्रय केंद्र तो बनाये गये और उनकी कागजी कार्रवाई भी पूरी की गई है। लेकिन हमारी समस्या जस की तस है।बाढ़ ओला वृष्टि और तेज बारिश के कारण फसल नष्ट होने पर प्रदेश की सरकार ने संबंधित किसान के खेत का मुआवजा राजस्व प्रशासन को मदद राशि देने के आदेश दिए गए है।लेकिन तहसील के कर्मचारियों की लापरवाही के चलते किसान इस बार भी अपनी सड़ी हुई फसल का मुआवजा पाने के लिए भटक रहा है। और दरबदर ठोकर खाने को मजबूर है। और छोटा जानवरों को पकड़वा कर गौशालाओं में भेजा जाए और तहसील रामनगर के गांव में गरीब पात्र लोगों को पट्टा दिया जाए तहसील रामनगर के गणेशपुर शुक्ला ढाबा के पास बन रहे पेट्रोल पंप के मालिक के द्वारा ग्राम समाज की जमीन पर कब्जा किया जा रहा है इसको तत्काल रोका जाए। तहसील रामनगर मत्स्य पालन स्पेक्टर के द्वारा अवैध तरीके से लोकल पेपर में गजट करा कर मनचाहे लोगों को पैसा लेकर मत्स्य पालन का पट्टा कराया जा रहा है इसको तत्काल और रोककर दोबारा किसी अच्छे पेपर में गजत कराकर पट्टा किया जाए तहसील के लेखपालों के द्वारा वरासत बाई जात के नाम पर धन उगाही की जाती है इसको तत्कालीन रोका जाए। जिससे किसान दर- बदर की ठोकरें खाने से बचे।

रिपोर्ट/कृष्ण कुमार शुक्ल/विवेक शुक्ल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here