घटिया सामग्री का प्रयोग कर बनाया जा रहा है आईटीआई कॉलेज आमजन में बना है चर्चा का विषय

0
350

रामनगर/बाराबंकी

उत्तरप्रदेश के बाराबंकी जनपद की तहसील रामनगर से सनसनी खेज खबर सामने आ रही है।जंहा रामनगर के अशोकपुर चाचूसराय में आई टी आई कालेज में घटिया सामग्री का प्रयोग हो रहा है।भले ही लोक निर्माण विभाग की ओर से क्षेत्र मे होने वाले बडे निर्माण कार्यो की प्राथमिक जिम्मेदारी अंशुमान सिह जे ई को मिल जाती है।अब यह बात अलग है कि विभागीय कमाऊ पूत की अजब गजब कार्यशैली के चलते वह निर्माण कार्य चंद दिन और माह मे ध्वस्त हो जाते है।मामला चाहे नगर पंचायत रामनगर मे अन्तेष्टि स्थल के पास बनवाये गये तालाब पार्क तथा पी जी कालेज के पास तालाब पार्क गौशाला कही का हो हालात करीब करीब सब कही एक जैसे है।विभाग भी इनके ऊपर दक्ष है।बताते चले कल्याणी नदी पर बनने वाले पुल से लेकर करीब करीब सभी बडे निर्माण कार्यो की जिम्मेदारी बडे ही आसानी से इन्हे ही मिल जाती है।बताते चले नगर पंचायत रामनगर मे पूर्व के समय मे तैनात जे ई श्री वर्मा यहा तैनात थे।लेकिन विभागीय नियमो को भी ताक मे रखकर आपको तैनाती दे दी गयी थी।आज वह स्वंय नगर पंचायत के बडे निर्माण कार्यो से भारी छलावा कर स्वंय दूर हो गये।अभी भी बन रहे आई टी आई कालेज में घटिया पीली ईट से से निर्माण कार्य हो रहा है।अभी तक इस आई टी कालेज को बना रहे ठेकेदारों के मिस्त्री लेबर पीली ईट का प्रयोग कर निर्माण कार्य कर रहे है।

रामनगर बाराबंकी भले ही लोक निर्माण विभाग की ओर से क्षेत्र मे होने वाले बडे निर्माण कार्यो की प्राथमिक जिम्मेदारी अंशुमान सिह जे ई को मिल जाती है।अब यह बात अलग है कि विभागीय कमाऊ पूत की अजब गजब कार्यशैली के चलते वह निर्माण कार्य चंद दिन और माह मे ध्वस्त हो जाते है।मामला चाहे नगर पंचायत रामनगर मे अन्तेष्टि स्थल के पास बनवाये गये तालाब पार्क तथा पी जी कालेज के पास तालाब पार्क गौशाला कही का हो हालात करीब करीब सब कही एक जैसे है।विभाग भी इनके ऊपर दक्ष है।बताते चले कल्याणी नदी पर बनने वाले पुल से लेकर करीब करीब सभी बडे निर्माण कार्यो की जिम्मेदारी बडे ही आसानी से इन्हे ही मिल जाती है।बताते चले नगर पंचायत रामनगर मे पूर्व के समय मे तैनात जे ई श्री वर्मा यहा तैनात थे।लेकिन विभागीय नियमो को भी ताक मे रखकर आपको तैनाती दे दी गयी थी।आज वह स्वंय नगर पंचायत के बडे निर्माण कार्यो से भारी छलावा कर स्वंय दूर हो गये।

रिपोर्ट/कृष्ण कुमार शुक्ल/विवेक शुक्ल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here