घटिया सामग्री का इस्तेमाल कर किया जा रहा आईटीआई कॉलेज का निर्माण, अधिकारी बेखबर

0
393

रामनगर/बाराबंकी

रामनगर के अशोकपुर चाचू सराय में बनवाये जा रहे आई टीआई कॉलेज की महत्वाकांक्षी योजना परवान चढ़ने को आतुर है।आपको बताते चले निर्माण हो रहे आई टी आई कॉलेज में हो रहा भारी भ्रष्टाचार घटिया किस्म के ईटे व घटिया सामग्री का हो रहा इस्तेमाल ठेकेदार की मनमानी और घोर लापरवाही के कारण यह भवन भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ रहा है।अब जागरुक जनो मे सवाल तो इस बात का है कि जब भवन ही गुणवत्ता विहीन रहेगा तो शासन की मंशा परवान कैसे चढ़ेगी।मालूम हो कि क्षेत्र मे कोई आई टी आई कॉलेज न होने से निराशा व्याप्त थी।सांसद उपेन्द्र सिंह रावत और क्षेत्रीय विधायक शरद कुमार अवस्थी के द्वारा आधार शिला रखे जाने के बाद क्षेत्र मे खुशी की लहर दौड़ गयी थी।लेकिन कार्यदायी संस्था लोक निर्माण विभाग के ठेकेदार और जे ई की मिलीभगत से पीली ईट का प्रयोग कच्ची फड़ पर मानक विहीन मसाला तैयार करना।जिससे इस भवन के भविष्य का सहज ही अनुमान लगाया जा सकता है कि जब नीव ही कमजोर होगी तब लगभग ग्यारह करोड़ रुपयो की अधिक की लागत से बन रहे राजकीय आई टीआई कॉलेज में इस तरह से भ्रष्टाचार चरम पर है।आजादी के बाद से क्षेत्र के बच्चों के लिये सुनहरे भविष्य के रुप मे बन रहे कालेज की बुनियाद ही कमजोर होगी तो आगे का भविष्य प्रभावित होना तय है।एक तरफ मानक विहीन सरिया और मसाले का प्रयोग है तो दूसरी तरफ कच्ची मिट्टी के ऊपर बनाया जा रहे मसाले का घोल स्वंय अपनी कहानी बया कर रहा है।वहा मौके पर मौजूद मजदूर से जब ईट के बारे यह कहा गया कि पीली ईटे लग रही है तब उसने कहा यह तलावा ईट हैं परंतु वह घबराने लगा इस भवन की गुणवत्ता को लेकर क्षेत्र मे उठ रहे सवाल नामवर जेई अंशुमान सिंह से हमारे संवाददाता ने जानकारी लेने का प्रयास किया तब जेई अंशुमान सिंह ने फोन रिसीब करना मुनासिब नही समझा।

रिपोर्ट/कृष्ण कुमार शुक्ल/विवेक शुक्ल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here