रामनगर:बैंक मित्र से पीड़ित महिला ने पैसा हड़पने के संबंध में दिया थाने पर प्रार्थना पत्र नहीं हुई कोई कार्यवाही

0
180

रामनगर/बाराबंकी

                                          ,    ,

तहसील रामनगर के अंतर्गत ग्राम पुरैना मजरे बिंदौरा परसपुर की पीड़ित महिला का आरोप यह है कि बी.सी. विनोद कुमार के वहां खाता खुलवाया था महिला ने कुल 75000 रुपए जमा किए थे जिसका कोई ऑनलाइन लिखा पढ़ी उसके खाते में नहीं दिखा रहा बैंक की किताब पर पेन से लेन देन लिखा है महिला का कहना यह है की केवल 30000 रुपए दिए हैं और एसबीआई बैंक मित्र ने धोखाधड़ी कर 45000 रुपये हड़प लिए है।पीड़ित महिला इसकी शिकायत लिखित प्रार्थना पत्र कोतवाली रामनगर में दिनाँक 2/11/2021 को दिया था लेकिन कोई कार्यवाही बैंक मित्र पर पुलिस ने नही की है। महिला के साथ बैंक मित्र विनोद कुमार की ओर से की गई धोखाधड़ी के मामले मे अभी तक जांच पड़ताल एंव कार्यवाही शून्य है। पीड़ित महिला अपने मेहनत की कमाई वापस पाने के लिये दर दर भटक रही है।मालुम हो कि थाना रामनगर के अन्तर्गत ग्राम पुरैना मजरे विन्दौरा परसपुर की निवासी चन्द्रकांता पत्नी दर्शन ने भारतीय स्टेट बैंक की शाखा रामनगर से समबंधित बी. सी. विनोद कुमार के यहा महादेवा स्थित कार्यालय मे अपना बचत खाता खुलवाया था। पीड़ित महिला ने अपनी भैंस और पड़वा को बेचकर वह धन खाते मे जमा करने के लिए दिया था। महिला के खाते मे करीब पचहत्तर हजार की रकम बढ़ जाने से बैंक मित्र की निगाहो मे लालच आ गया और उसने खाते में न डालकर पैसे रख लिए और पीड़ित महिला को बिना जमा किये पैसे तीस हजार वापस किया वह कलम से पासबुक पर लिख दिया बैंक में इसका लेन-देन का कोई विवरण नहीं है जब संवाददाता ने स्टेट बैंक आफ इंडिया की बैंक मैनेजर से बात की तो उन्होंने कहा किसी प्रकार का कोई लेन-देन खाते में नहीं किया गया है। बैंक मित्र विनोद कुमार के द्वारा ₹45000 महिला के हड़प लिए गए अब देखना यह होगा की रामनगर थाने की पुलिस वह बैंक मैनेजर रामनगर क्या न्याय दिला पाते हैं इस महिला को। पीडिता के मुताबिक प्रकरण कुल पैतालिस हजार रुपये का चूना लगा दिया।पीडिता ने एस बी आई की महिला शाखा प्रबनधक से लेकर थाने पर जाकर महिला हेल्प डेस्क पर लिखित तहरीर देकर शिकायत की थी।इस समबंध मे कोतवाल नारद मुनि का कहना है कि यह मामला महादेवा चौकी इंचार्ज अरुण कुमार मिश्र देख रहे है।संवाददाता ने जब चौकी इंचार्ज से दूरभाष पर संपर्क किया तो उनका मोबाईल स्वीच आफ था।जबकि एस. बी.आई की शाखा प्रबन्धक का कहना था शिकायत भी मेरे पास आई है पहले पीड़ित चन्द्रकांता का मामला हल हो उचित कार्यवाही विभाग की ओर से की जायेगी।

रिपोर्ट/कृष्ण कुमार शुक्ल/विवेक शुक्ल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here