आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों को पढ़ा जिंदगी संवार रही ‘नन्ही कली’

0
296

सूरतगंज/बाराबंकी

 देश के माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा लिए गए संकल्प बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ के सपने को साकार करने के लिए सरकार के साथ-साथ स्वयंसेवी संस्थाएं भी इस मुहिम को सफल बनाने के लिए कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं।लगभग 5 वर्ष पूर्व बाराबंकी जनपद के सूरतगंज देवा रामनगर तथा निन्दूरा ब्लाक क्षेत्र में नांदी फाउंडेशन के तत्वाधान में चल रहे, नन्ही कली प्रोजेक्ट के द्वारा समाज में बालिकाओं को शिक्षित और सशक्त बनाने के लिए अनवरत शिक्षा दी जा रही है, शिक्षा के साथ-साथ शिक्षण कार्य में प्रयुक्त होने वाली किताबें, पेन, कॉपी, पेंसिल, बैग रैन कोट सहित बालिकाओं के निजी जरूरतों का सामान संस्था द्वारा मुहैया कराया जा रहा है संस्था के द्वारा प्रथम कक्षा से लेकर मैट्रिक तक निशुल्क शिक्षा दी जाती है लगातार संस्था शिक्षण कार्य को आगे बढ़ाती रही बीते दिन सूरतगंज ब्लाक की विभिन्न ग्राम पंचायतों कुतलूपुर, धौरछिया, अकोहरा, कडाकापुर, नदऊपारा,तथा ग्राम पंचायत हथोइय्या मे बालिकाओं की शिक्षा में प्रयुक्त होने वाली निशुल्क सामग्री व बैग वितरित सूरतगंज ब्लॉक कोऑर्डिनेटर रश्मि सिंह की अध्यक्षता में किये गये।समारोह में उपस्थित रामनगर तहसील के अंतर्गत सूरतगंज ब्लॉक को ऑर्डिनेटर रश्मि सिंह ने बताया जब बालिकाएं शिक्षित होंगी तो हमारा समाज ससक्त, मजबूत होगा। “बालिकाओं के शिक्षित होने से एक नहीं दो घर शिक्षित होंगे” संस्था का लक्ष्य बालिकाओं को शिक्षा देकर सशक्त बनाना है। इस समय पूरे जनपद बाराबंकी में लगभग पंद्रह हजार बालिकाओं को संस्था द्वारा निशुल्क शिक्षा दी जा रही हैं। सरकार की तर्ज पर संस्था का भी उद्देश्य है कि कोई भी बालिका शिक्षा से वंचित न रहे। इस कार्यक्रम में मुख्य रुप से नन्ही कली ब्लॉक को ऑर्डिनेटर सूरतगंज रश्मि सिंह सी.ए. मधू जायसवाल, सी.ए. रूचि जायसवाल सी.ए.रेखा पाल ग्राम प्रधान राम सिंह, व चन्दन सिंह समस्त छात्राएं तथा उनके अभिभावक गण मौजूद रहे। अभिभावकों ने संस्था की प्रशंसा की और कहा की संस्था के माध्यम से हमारी बच्चियां शिक्षित होंगी जिससे एक नए सुन्दर शिक्षित समाज की स्थापना होगी।।                                      

              रिपोर्ट:-कृष्ण कुमार शुक्ल/विवेक शुक्ल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here