महादेवा जाने वाले मार्ग के किनारे तीन दिन से मृत पड़े गौवंश की बदबू से फैल रही बीमारियां जिम्मेदार मौन

0
157

रामनगर/बाराबंकी

उत्तरप्रदेश की योगी सरकार जहां एक तरफ आवारा पशुओं की उचित देखभाल के लिए सरकारी गौशालाओं का निर्माण करा कर उनके चारे का गौशाला में इंतजाम कर रही है वही दूसरी तरफ सरकार के नुमाइंदे सरकार के इस अभियान को सही दिशा देने में असमर्थ दिखाई पड़ रहे हैं। आवारा पशुओं की ऐसी दुर्दशा बाराबंकी की तहसील क्षेत्र तक सीमित न होकर, यह दुर्दशा धीरे-धीरे व्यापक रूप लेकर मौजूदा प्रदेश सरकार के लिए बड़ी चुनौती साबित हो रही है। जिसे विपक्ष सड़क से संसद तक का मुद्दा बनाए हुए है।
ऐसा ही कुछ मामला जनपद बाराबंकी की तहसील क्षेत्र रामनगर के अंतर्गत तीर्थस्थल महादेवा लोधेश्वर धाम से जुड़ा है। जहां बीते कई दिनों से एक आवारा पशु मरा हुआ मंदिर के मुख्य गेट में प्रवेश करते दाहिने ओर पड़ा है। रामनगर तहसील प्रशासन की घोर लापरवाही उजागर हो रही है रोड व हाइवे के निकट जो गौवंश वाहनों की टक्कर से मर जाते है।उसकी सुध लेने वाला कोई जिम्मेदार नही हैं।वहां मौजूद लोगों का कहना है कि यह पशु म्रत अवस्था मे बीते तीन दिनों से पड़ा है जिसकी किसी जिम्मेदार अधिकारियों ने स्थानीय लोगों के द्वारा की गई शिकायत के बाद भी कोई सुध नहीं ली है वही मृत पड़े हुए जानवर से दुर्गंध आने के कारण श्रद्धालु व दुकानदार व वहां के निवासी मृत जानवर से तेज दुर्गंध से घोर बीमारी फैलने की आशंका है।वहां के पंडित राज किशोर शास्त्री ने कहा कि सोमवार को महादेवा में काफी संख्या में भक्त दर्शन करने के लिये लोधेश्वर मंदिर उस रास्ते से आते है। उन श्रद्धालु को दुर्गंध के कारण भारी परेशानी का सामना करना पड़ा ।

  • रिपोर्ट/कृष्ण कुमार शुक्ल/विवेक शुक्ल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here