जगतपुर में बारिश के कारण गिरी दीवार,हादसा टला

0
315

,     ,

पूरनपुर/पीलीभीत। तीन दिन से हो रही लगातर बारिश ने गरीबों व किसानों पर जमकर अपना कहर बरपाया। कई गरीबों के घरों की दीवारे गिर गयी। मानो गरीबो पर दुःख का पहाड़ टूट पड़ा। सेहरामऊ उत्तरी थाना क्षेत्र के गांव जगतपुर में मंगलवार को सुबह से हो रही बारिश के कारण कई लोंगो की दीवारे गिर गयी। जगतपुर निवासी हंसराम राठौर के घर की दीवार मंगलवार अचानक भरभरा कर गिर पड़ी। जिससे गांव व मोहल्ले में हड़कंप मच गया। दीवार गिरने से परिवार के लोग बाल बाल बच गए। दीवार गिरने से हंसराम को काफी नुकसान हुआ है। घर में रखा सामान भी टूट कर क्षतिग्रस्त हो गया । व दीवार का मलबा सड़क पर जमा हो गया। दीवार गिरने की आवाज सुनने पर गाँव के ग्रामीण घर की तरफ दौड़ पड़े। कुदरत की बात रही कि कोई बड़ा हादसा नही हुआ। परिवार के लोग साफ बच गए। व जगतपुर निवासी बद्री गिरी का तीन शेड भी बारिश के कारण गिर गया। वही गाँव निवासी लालाराम राठौर का सड़क किनारे बने मकान की दीवार भी गिर गई। बारिश के कहर से ग्रामीण बहुत ही चिंतित दिखाई दिए।।                                       

कई वर्षों से आवास की उम्मीद लगाने के बाद भी हंसराम को नही मिला आवास योजना का लाभ-                        

जगतपुर निवासी हंसराम राठौर कई वर्षों से आवास की उम्मीद लगाए हुए है। व आवास योजना के पात्र भी है। लेकिन जिम्मेदार अधिकारियों की लापरवाही के चलते उन्हें आवास योजना का लाभ नही दिया गया। आवास योजना की पात्रता सूची में हंसराम का नाम भी दर्ज था। लेकिन उन्हें आवास योजना का लाभ अभी तक नही मिल सका। जिससे वह कच्ची दीवारों के बने घर मे रहने को मजबूर है। हर वर्ष बारिश के मौसम में हंसराम के घर मे बारिश से भारी मात्रा में जलभराव हो जाता है। जिससे उठना बैठना व खाना बनाने में काफी दिक्कत होती है। व घर गिरने का खतरा भी बना रहता है। मंगलवार हुई रिमझिम बारिश से हंसराम राठौर के घर की दीवार अचानक भरभराकर गिर पड़ी। जिससे परिवार में चीख़ पुकार मच गई। सूचना पर कई ग्रामीण मौके पर पहुँच गए। फिलहाल एक बड़ा हादसा होने से टल गया। अचानक दीवार गिरने से हंसराम के सामने अब काफी समस्याएं उतपन्न हो गयी है।।                                   

                  रिपोर्ट/विकास सिंह                  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here