सत्ता में विजय पाने के लिए वोट बैंक बढ़ा रहे दलीय नेता-जंसम्पर्को का दौर जारी

0
209

***बाढ़ ग्रस्त क्षेत्र में लैईया चना का वितरण कर सीट के लालच में अपने नेताओं तक पहुंचा रहे फोटो****

रिपोर्ट-राघवेंद्र मिश्रा/विवेक शुक्ला Naradsamvad.in
Naradsamvad samachar  

 

रामनगर-आगामी विधानसभा चुनाव की सरगर्मियां काफी तेज है। कई नेता काफी जद्दोजिहाद के बाद सीट पाने के लालच में लगातार जनसंपर्क कर बाढ़ ग्रस्त इलाके में जाकर लहिया चना देकर फोटो खिंचवाते हैं जिसके बाद उन फोटो को अपनी पार्टी के बड़े नेताओ के पास भेजकर राहत सामग्री बांटते हुए बताया जाता है इतना ही नही सीट के लालच में पूर्व में रहे कद्दावर मंत्री और विधायक लगातार अपनी पार्टी के संपर्क में हैं तो दल विरोधी नेताओं ने भी वोट बैंक बढ़ाने के लिए जनसंपर्क कर क्षेत्र का दौरा कर रहे हैं। बसपा द्वारा सीट की घोषणा हो जाने के बाद अन्य पार्टियों में हलचल है कि क्या इस बार चेहरा नया होगा या फिर पूर्व में रहे मन्त्री या विधायक ही रामनगर विधानसभा को जिताने के लिए अपनी चोटी से एड़ी तक का पुरजोर लगाए हैं। चुनावी दमखल में इस बार जनता क्या किसी नए चेहरे को पसन्द करेगी या फिर वर्तमान से लेकर पूरे त्ववाधान के समय मे रहे नेताओ ने कितना विकास किया है। यह तो आने वाले चुनाव में जनता अपने जनप्रिय प्रतिनिधि को चुन कर साझा करेगी सवाल यह उठता है कि विकास करने वाली सरकार को जनता चुनेगी या फिर सिर्फ विकास को बताने वाले नेताओं को चुना जाएगा।खैर ये तो जनता का विषय है। रामनगर विधानसभा में एक पार्टी से सीट पाने के लिए कई नेताओं की लंबी और बहरूपिया लाइन लगी है।किसी-किसी ने तो अपनी पुरानी पार्टी छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया था और एक बार फिर से विधायक बनने के ख़्याव देखे जा रहे हैं तो वही विपक्ष की मजबूत समाजबादी पार्टी के नेताओं द्वारा सिर्फ अपने ही कार्यक्रमों में पार्टी के कार्यकर्ताओं को सम्बोदित किया जाता है कि इस बार उत्तरप्रदेश में पूर्ण बहुत मत से सरकार बनानी है। तो वहीं पूर्व में रहे उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा उत्तरप्रदेश में चार सौ सीटें लाने की बात कही जा रही है। रामनगर के विपक्षी पार्टी के नेता सिर्फ अपने कार्यालय पर ही वैठे नजर आते हैं तो वहीं भाजपा में सीट पाने को लेकर उच्च नेताओं के पास आने जाने के लिए दलीय नेताओं में काफी जद्दोजिहाद है। कोई अमित शाह तो कोई प्रदेश अध्यक्ष से सिफारिश और तमाम तरह की बात कर सत्ता रूढ़ि से विधायक का सीट पाने के लिए चक्कर लगा रहे हैं।अभी हाल में ही पूर्व में रही उत्तरप्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती ने अपने पार्टी एक निजी कार्यक्रम में लखनऊ में खूब भाजपा और समाजवादी सरकार पर निशाना साधा और कहा इस बार हाँथी का नही उत्तर प्रदेश का विकास होना है,किसान युवा और मध्यमवर्गीय की श्रेणी में आने वाली समस्त जनता भाजपा सरकार से त्रस्त है। हाल में ही भाजपा द्वारा जिलाध्यक्ष बदल देने से आगामी चुनावी में नेताओं द्वारा हेर फेर कर पार्टी बदलने की चर्चाएं जोरों पर हैं। फिलहाल चुनावी उपडेट के लिए पढ़ते रहिये मेरे साथ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here