संदिग्ध परिस्थितियों में महिला की मौत-तीन दिन पहले ही महिला ने लगवाई थी कोरोना वैक्सीन की पहली डोज

0
1172

अगर हमारी पत्नी का अच्छे से इलाज करते डॉक्टर तो शायद बच जाती पत्नी की जान-अखिलेश(नीलम का पति)

रिपोर्ट-राघवेन्द्र मिश्रा/विबेक शुक्ला NaradSamvad.in
बाराबंकी-रामनगर तहसील क्षेत्र के गाँव विछलखा मे गुरुबार शाम एक महिला की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गयी।महिला का नाम नीलम उम्र लगभग (31) जिसकी गुरुबार देर शाम तकरीबन लगभग शाम छः बजे मौत हो गयी।महिला के पति अखिलेश ने बताया है कि वीते 31 अगस्त को हमारी पत्नी नीलम ने कोरोना वैक्सीन की पहली डोज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र रामनगर में लगवाई थी कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लगवाने बाद लगातार हमारी पत्नी नीलम की तबियत बिगड़ती रही,वैक्सीन लगवाने के बाद नीलम को बुखार आया और हम उसको सरकारी अस्पताल रामनगर लेकर गए जहाँ मौजूद डॉक्टर ने बिना देखे ऐसे ही दवाई दे दी और कहा कि ये दवाई खाओ ठीक हो जाओगी-दवाई खाने के बाद भी नीलम की बिगड़ती तबियत में कोई सुधार नही आया।अगर यही डॉक्टरों ने अच्छे से देखकर हमारी पत्नी का इलाज किया होता तो शायद आज हमारी पत्नी नीलम जिंदा होती-यह जानकारी अखिलेश नीलम के पति ने दी है।गुरुबार को दोपहर नीलम की तबियत बिगड़ी तो अखिलेश उसको अस्पताल ले जा रहे थे कि रास्ते मे ही नीलम ने दम तोड़ दिया।नीलम की मौत से पूरे गाँव मे एक उदासी छाई है जब इस पूरे मामले में डॉक्टर हरिशंकर से बात की गई तो उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले की जांच होगी और जो दोषी पाया जाएगा उस पर कड़ी कार्यवाही की जाएगी।फिलहाल इस मामले में नीलम की बॉडी का पोस्टमार्टम होना जरूरी है।नीलम की मौत से घर बालों का रो-रो कर बुरा हाल है।फिलहाल नीलम के पति अखिलेश ने सरकार से न्याय की दरखास्त लगाई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here