जेष्ठ मास के अंतिम बड़े मंगल वार को भव्य रामचरितमानस पाठ एवं भंडारे का आयोजन

0
855

जेष्ठ मास के अंतिम बड़े मंगल वार को भव्य रामचरितमानस पाठ एवं भंडारे का आयोजन

“सर्वदेव मानव कल्याण मंदिर” रानी बाजार में ग्राम प्रधान श्री कांत शुक्ला ने पूजा अर्चना कर भण्डारे का किया आयोजन

#राघवेन्द्र_मिश्रा www.Naradsamvad.in
बाराबंकी-ज्येष्ठ का महीना वैशाख के महीने के बाद आता है. अंग्रेजी कैलेंडर की बात करें तो ये महीना हमेशा जून और मई के महीने में ही आता है.
हिन्दू कैलेंडर में ज्येष्ठ का महीना तीसरा महीना होता है. इस महीने में सूर्य अत्यंत ताक़तवर होता है, इसलिए गर्मी भी ज्यादा होती है. सूर्य की ज्येष्ठता के कारण इस माह को ज्येष्ठ कहा जाता है. ज्येष्ठा नक्षत्र के कारण भी इस माह को ज्येष्ठ कहा जाता है. इस महीने में धर्म का सम्बन्ध जल से जोड़ा गया है, ताकि जल का संरक्षण किया जा सके. इस मास में सूर्य और वरुण देव की उपासना विशेष फलदायी होती है.
हिन्दी के महीनों में गिने जाने वाला ये जेष्ठ का मास हिन्दुओं के आस्था का प्रतीक बताया गया है ज्येष्ठ मास के बड़े और अंतिम मंगलवार को श्रद्धालुओं ने हनुमान जी को अपना आराध्य मानते हुए बड़े मंगल और जेष्ठ मास के अंतिम मंगलवार को भव्य रामचरितमानस ब पूजा पाठ का आयोजन कर भंडारे का भी  आयोजन किया गया जिले की तहसील रामनगर के पास स्थित मलिहामऊ में सर्वदेव मानव कल्याण मंदिर में ग्राम प्रधान सिरौली कला श्रीकांत शुक्ला ने अपने समस्त परिवार के साथ विधिवत पूजा पाठ कर हनुमान जी का भंडारे से भोग लगाया है ग्रामीणों एवं राहगीरों को लंगर लगाकर प्रसाद देने का कार्य किया है बाबा के प्रसाद में ग्रामीणों को राहगीरों को पूड़ी सब्जी और छोला चावल का प्रसाद वितरण किया इस मौके पर पूर्व चेयरमैन रामशरण पाठक के द्वारा श्री रामेश्वर नर्मदेश्वर महादेव मंदिर पर सुंदरकांड पाठ भी हुआ और भव्य भंडारे में बूंदी का प्रसाद वितरित किया गया इस मौके पर ज्ञानेंद्र वर्मा अनिल कुमार शुक्ला मोहित सिंह सिमरा विकास श्रीवास्तव राजू शुक्ला शुभम अवस्थी पंकज यादव सहित तमाम लोग मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here