पांच माह की गर्भवती को दहेज लोभियों ने मारपीट कर घर से निकाला!

0
377

पांच माह की गर्भवती को दहेज लोभियों ने मारपीट कर घर से निकाला!

पति ने कहा मांग पूरी होने पर ही घर में मिलेगी जगह

 

रिपोर्ट अरविंद त्रिपाठी www.naradsamvad.in

शाहजहाँपुर// सरकार द्वारा तीन तलाक का कानून बनाए जाने के बावजूद मुस्लिम समाज में घरेलू हिंसा व दहेज उत्पीड़न की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। तीन तलाक कानून के डर की वजह से तलाक के मामलों में तो कमी आई है लेकिन घरेलू हिंसा की घटनाएं वह दहेज उत्पीड़न की घटनाओं में बेतहाशा वृद्धि भी हो रही है ऐसा ही एक मामला तिलहर थाना क्षेत्र के ग्राम गोपालपुर ठठियुरा निवासी शेर अली की पुत्री के साथ घटित हुआ। शेर अली ने अपनी पुत्री असमा की शादी 7/9/2019 को मुस्लिम रीति रिवाज के अनुसार सामर्थ के मुताबिक दान दहेज देकर थाना फतेहगंज पूर्वी निवासी अशफाक अली पुत्र गफूरी के साथ की थी। शादी के बाद से ही ससुराली जन लगातार दहेज में अपाचे बाइक टीवी फ्रिज वाशिंग मशीन आदि की मांग करने लगे इसी दौरान असमा ने पुत्री को जन्म दिया जिस पर ससुराली जनों ने लड़की पैदा होने पर ताने मारने शुरू कर दिए यहां तक कहा कि इसकी शादी क्या तेरा बाप करेगा अभी तक ऐसी घटनाएं मुस्लिम समाज में कम ही देखने को मिलती थी लेकिन अब मुस्लिम समाज में भी दहेज रूपी दानव ने पैर पसारने शुरू कर दिए। जिसकी वजह से 5 माह की गर्भवती असमा अपनी 10 माह की पुत्री के साथ दर-दर भटकने को मजबूर है। यह दिन तो हद ही हो गई सांप ननंद और जेठानी ने मिलकर असमा को मिट्टी का तेल छिड़ककर आग लगाने की कोशिश की किसी तरह बचकर असमा भाग निकली और अपने मायके वालों को सूचना दी जिस पर समाज के कुछ लोगों ने बैठकर पंचायत करवा दी। लेकिन दहेज लोभियों की हरकतें बढ़ती ही गई सारी सीमाएं तोड़ते हुए पति अपनी 5 माह की गर्भवती पत्नी को 10 माह की पुत्री के साथ तिलहर थाना क्षेत्र में हाईवे किनारे खंती में फेंक कर फरार हो गया रास्ते से गुजर रहे राहगीरों को जब असमा ने अपनी आपबीती सुनाई तो मायके वालों को सूचना दी गई और असमा ने पुलिस अधीक्षक को लिखित प्रार्थना पत्र देकर ससुराली जनों द्वारा किए जा रहे उत्पीड़न से निजात दिलाने की मांग की लेकिन अभी तक उसकी सुनवाई ना होने दें पीड़िता दर-दर भटकने को मजबूर है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here