हद लापरवाही! UP में मृत शिक्षक की लगा दी गई चुनावी ड्यूटी, फिर गैरहाजिरी पर दिया कार्रवाई का निर्देश

0
404

रिपोर्ट/कृष्ण कुमार शुक्ल/नारद संवाद/उत्तरप्रदेश।

नारद संवाद/समाचार/उत्तरप्रदेश।

उत्तर प्रदेश के झांसी जिले में अफसरों की घोर लापरवाही एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है. यहां त्रिस्तरीय पंचायत उप-चुनाव में उस शिक्षक की ड्यूटी लगा दी गई जो अब इस दुनिया में नहीं है. असंवेदनशील अधिकारियों ने मृत शिक्षक के नाम चुनावी ड्यूटी स्लिप भी जारी कर दी और गुरुवार से आयोजित प्रशिक्षण शिविर में हिस्सा लेने का निर्देश दे दिया. 

दरअसल, इन दिनों रिक्त ग्राम प्रधान समेत ग्राम पंचायत सदस्य पदों के लिए उप-चुनाव कराए जा रहे हैं. इसको देखते हुए चुनावी ड्यूटियां लगाए जाने का काम शुरू हुआ. बेसिक शिक्षा विभाग के सहायक अध्यापक सौरभ कुमार तलैया के नाम से उप-चुनाव में ड्यूटी संबंधी परवाना घर पहुंच गया. इस परवाने ने उनके परिजनों के जख्म फिर ताजे कर दिए. सौरभ कुमार तलैया की पिछले ही महीने कोरोना से मौत हो चुकी है. हाल में समाप्त हुए पंचायत चुनाव में उनकी ड्यूटी लगी थी, उसके बाद ही वह कोरोना संक्रमित हुए थे.

झांसी जिलाधिकारी की ओर से जारी इस ड्यूटी पत्र में दिवगंत सौरभ को विकास खंड मोंठ की पोलिंग पार्टी संख्या- 81 में मतदान अधिकारी प्रथम के तौर पर ड्यूटी लगाई गई. उनको 10 जून को प्रशिक्षण के लिए दोपहर 12 से 1 बजे के बीच दीनदयाल सभागार में उपस्थित होने के निर्देश दिए गए. ऐसा न करने पर निर्वाचन ड्यूटी से अनुपस्थित मानते हुए कार्रवाई तक का अल्टीमेटम दे दिया गया. इस तरह की लापरवाही में संभव है कि दूसरे मृत या कोरोना पॉजिटिव कर्मचारियों की ड्यूटी भी लगा दी गई हो.

पंचायत चुनाव में ड्यूटी करने वाले जिन कर्मचारियों की कोरोना से मौत हुई उनकी सूची झांसी जिला प्रशासन ने ही तैयार की थी. पहली सूची में कुल 36 कर्मचारी शामिल किए गए थे, इसमें सौरभ तलैया का नाम 12वें नंबर पर था. इस सूची में सौरभ की मृत्यु की तारीख 30 अप्रैल दर्ज है. मतदान कर्मिक के तौर पर उनकी ड्यूटी बंगरा ब्लॉक में लगाई गई थी. मतदान के लिए ड्यूटी लगाते समय जिला प्रशासन ने अपनी ओर से जारी इस मुआवजा सूची पर गौर करना भी जरूरी नहीं समझा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here