दबंग कोटेदार द्वारा 3 माह से नहीं बांटा गया राशन, शिकायतों के बाद भी जिम्मेदार मौन,

0
108

दबंग कोटेदार द्वारा 3 माह से नहीं बांटा गया राशन, शिकायतों के बाद भी जिम्मेदार मौन,

हैदर गढ़ बाराबंकी

फोटो काल्पनिक दिखाई गई है

भारत सरकार और प्रदेश सरकार द्वारा निरंतर गरीबों को आम जनमानस को कोई असुविधा ना इसके लिए गरीब कल्याण योजना के तहत राशन व सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत मिलने वाले राशन का समय पर उठान करा देती जिससे ग्रामीण क्षेत्रों में वह शहरी क्षेत्रों में किसी को किसी प्रकार की असुविधा ना हो लेकिन विडंबना है कि उसी सरकार के जिम्मेदार लक्ष्मी के टुकड़ों के मद में अंधे होकर गरीबों का हक डकार ने में जुट जाते हैं इसी का परिणाम है कि विकासखंड त्रिवेदीगंज के ग्राम पैकौली मैं दबंग कोटेदार द्वारा विगत 3 माह से ग्रामीणों में राशन वितरण नहीं किया गया लगातार शिकायतों के बावजूद भी स्थानीय प्रशासन शिकायतों को अनसुना कर कागजी कोरम पूरा करने में जुटा है वैसे तो हैदर गढ़ का सप्लाई विभाग लक्ष्मी के चक्कर में अक्सर चर्चा में बना रहता है जिसके कई उदाहरण भी हैं फिर भी इन भ्रष्ट अधिकारियों पर कार्यवाही करने को कौन कहे इनको प्रशासनिक मशीनरी द्वारा वरदहस्त प्राप्त हो जाता है और यह जिम्मेदार जनमानस की शिकायतों को अनसुना कर धन उगाही में जुट जाते हैं, कोविड-19 जैसी महामारी को दृष्टिगत रखते हुए भारत सरकार द्वारा प्रदेश सरकार को राशन आमंत्रित कर ग्रामीणों व जनमानस में वितरित करने का आदेश दिया जिसका तहसील क्षेत्र में अन्य जगहों पर वितरण शुरू हो गया परंतु ग्राम पैकौली में इस महामारी के विकट दौर में भी विगत 3 माह से ग्रामीणों में राशन वितरित ना करना अपने आप में एक यक्ष प्रश्न खड़ा करता है ग्रामीणों ने एक स्वर में बताया कि उक्त कोटेदार द्वारा 3 माह से राशन नहीं दिया जा रहा है जब राशन लेने हम लोग जाते हैं तब कोटेदार द्वारा दबंगई के बल पर हम लोगों को भगा दिया जाता है कोटेदार साफ शब्दों में कहता है कि पैसा देता हूं राशन दे दूंगा तो पैसा क्या जेब से दूंगा ऐसे में प्रश्न बनता है कि आखिर किसकी सह पर कोटेदार ग्रामीणों का राशन हड़प करता है कोटेदार विजय द्वारा ग्रामीण महिलाओं तक को नहीं बख्शा जाता बुजुर्ग महिला शिव देवी ,राम कुमारी राजकुमार रामदेव रामकरण सहित अनेकों ग्रामीणों ने एक स्वर में बताया कि उक्त कोटेदार द्वारा राशन मांगने पर धमकाया जाता है जिसकी शिकायत हम लोगों ने कई बार सप्लाई विभाग में किया लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई ऐसे में सवाल उठता है कि जहां एक तरफ प्रदेश के ईमानदार मुख्यमंत्री निरंतर प्रदेश की जनता की सेवा में तत्पर है वही उसी सरकार के सरकारी जिम्मेदार मुख्यमंत्री के निर्देशों को ठेंगा दिखाते हुए ग्रामीणों का राशन हजम कराने में जुटे हैं
ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री पोर्टल पर शिकायत करते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से उक्त कोटेदार के विरुद्ध दंडात्मक कार्यवाही कर ग्रामीणों में राशन बनवाने की मांग की है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here