नगर निकाय चुनाव की सरगर्मियां तेज,दर्जन भर से अधिक सामान्य वर्ग के दावेदार, भाजपा किस उम्मीदवार पर लगाएगी मुहर

0
333

“कौन करेगा-कुर्सी पर राज”

सपा सहित अन्य पार्टियों के दावेदारों की उपेक्षा भाजपा समर्थित प्रत्याशियों की लंबी कतार

आलोक तिवारी को मिल रहा युवाओं का साथ-प्रवल दावेदारों में दिख रहे हैं आलोक तिवारी-युवाओं की पहली पसंद हैं आलोक तिवारी

बारह सभासदों के दावेदारों पर बीजेपी की नजर-पिछले निकाय चुनाव में जीरो पर रही थी भाजपा

राघवेन्द्र मिश्रा(स्वतंत्र पत्रकार एवं लेखक)
नारद संवाद समाचार ।हैदरगढ़।पांच वर्ष से इंजतार कर रहे नेताओं के इंतजार के दिन अव कम होते जा रहे हैं निकाय चुनाव की तैयारी में लगे पिछले पांच सालों से अपनी जीत के लिए तैयारी कर रहे सभी नेता लगभग निकाय चुनाव की घोषणा के बाद मैदान मे उतर चुके हैं आगामी निकाय चुनाव की कुर्सी पर टकटकी लगाए बैठे सभी नेता अपने अपने दाँव -पेंच से राजनीति करने में लगे हैं। हालांकि अभी सीटों का आरक्षण तय नहीं हुआ है। ऐसे में नगर निकाय चुनाव की सीटों पर उम्मीदबारों की एक लंबी लाइन लगी हुई है। जगह जगह चस्पा पोस्टर,बैनर और होडिंग्स ये बता रहे हैं कि नगर पंचायत हैदरगढ़ की कुर्सी पर राज करना इतना आसान नही होगा।यहां बात करें तो लगभग सामान्य वर्ग के एक दर्जन से अधिक प्रत्याशी मैदान में अभी तक उतर चुके हैं आप को बता दें बारह बार्डों के लिए प्रत्याशियों ने अपनी अपनी हुंकार भरना शुरू कर दिया है दरअसल पिछले निकाय चुनांव में नगर पंचायत हैदरगढ़ के बारह बार्डों से भाजपा समर्थित एक भी सभाषद का प्रत्याशी जीत हासिल नही कर पाया था जिसके चलते इस बार पार्टी ने बहुत जोरों से कार्यकर्ताओं के साथ चुनावी नामक दंगल में कमर कस कर ताल ठोंक चुकी हैं जैसे जैसे चुनाव नजदीक आता जा रहा है कुछ राजनीतिक पार्टीयों के लोग अपनी कुर्सी को अभी से अपना मानने लगे हैं जबकि अभी तक किसी भी पार्टी ने अपना कोई प्रत्याशी घोषित नही किया है चुनावी दलदल में राजनीति को अपनी विरासत मानते हुए कुछ छुटभैया अपनी एक अलग ही अलख जला रहे हैं। इन्ही सभी के बीच एक नाम आलोक तिवारी का बहुत तेजी से जनता के बीच सुना जा रहा है। युवाओं की पूरी टोली भी आलोक तिवारी के साथ खड़ी दिखाई दे रही है ऐसे माहौल में राजनीतिक दलों के लोगों के बीच आलोक तिवारी का नाम एक चर्चा का विषय बना हुआ है। भाजपा(समर्थित) से टिकट मांग रहे आलोक तिवारी अपनी पूरी टीम के साथ लगातार जनता की सेवा कर रहे हैं आये दिन सांस्कृतिक कार्यक्रमों में बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले रहे हैं साथ ही अपना जनता जनार्दन के साथ-साथ युवाओं के साथ कंधे से कंधा मिला कर जनसेवा करने मे दिन रात एक कर लगे हुए हैं जनता भी आलोक तिवारी को इस बार समर्थन करने की बात कह रही है वही अन्य पार्टियों के प्रत्याशी अपनी टिकट क्लियर होने की होड़ में लाइन में लगे हैं ऐसे में जनता यह भी देख रही है किस को चुनना ठीक है और किसको गलत??,, सिर्फ कुर्सी पर राज करने के लिए या फिर जनता की सेवा और हैदरगढ़ का विकास करने के लिए एक शिक्षित और योग्य प्रत्याशी का समर्थन करना ही बेहतर होगा।

पूर्व में विपक्ष की सरकारें होने पर भाजपा से जुड़े आलोक तिवारी को कई बार कई परेशानियों का सामना भी करना पड़ा। लेकिन आलोक तिवारी पार्टी के ईमानदार कार्यकर्ता के रूप में जुड़े ही रहे।

सामान्य वर्ग अनारक्षित होने पर अपने को भाजपा के संभावित प्रत्याशी भी बता रहे हैं बताए भी तो क्यों न,
बचपन से लेकर आज तक अपने व परिवार के साथ आरएसएस और भारतीय जनता पार्टी की मजबूती के हमेशा समर्पित रहे हैं।

 


सत्तारूढ़ पार्टी से टिकट भी मिलने की संभावनाएं कहीं से कम नहीं दिख रहीं हैं। यदि पार्टी अपने वफादारों और पार्टी समर्पित लोगों की सूची देखेगी तो सामान्य वर्ग होने पर आलोक तिवारी का नाम पहले नंबर पर ही आने की संभावना है। हालांकि पिछड़ा वर्ग से सत्ता रूढ़ पार्टी से कुछ ऐसे नेता भी दावेदारी करेंगे जिन्होंने विपक्षी पार्टियों की सरकारें होने पर विपक्षी पार्टियों में बड़े पदों पर रहकर मलाई खाई है। अगर भाजपा इस बार आलोक तिवारी को अपना प्रत्याशी बनाती है तो सत्ता रुढी दल के छुटभैया नेता इस बार मलाई चाटने को भी तरस सकते हैं

 

सामान्य वर्ग अनारक्षित होने पर आलोक तिवारी की दावेदारी कई लोगों के मंसूबों पर पानी फेर सकती है. और नगर के कई लोगों के समीकरण भी बिगड़ सकते हैं।

क्या कहते हैं जातीय समीकरण

नगर पंचायत हैदरगढ़ में लगभग 15-16 हजार वोट माने जा रहे हैं जिसमे 5500-6000 वोट सामान्य वर्ग का है जो किसी न किसी माध्यम से आलोक तिवारी को सपोर्ट करेगा और हाँ अगर सपोर्ट नही तो नुकसान भी नही करेगा,क्योंकि सिर्फ पार्टी के सिम्बल पर ही नही बल्कि व्यक्तिगत सम्बधों चलते कहीं न कहीं फायदेमंद ही रहेंगे ये वोटर। बात करें पिछड़ा बर्ग की तो लगभग पाँच हजार वोट माने जा रहे हैं इनमें अन्य पार्टियों के भी दावेदारों की पकड़ बताई जा रही है।भाजपा ने समय रहते अच्छे युवा प्रत्याशी का चयन किया तो, जनता इस बार नगर पंचायत की कुर्सी पर युवा का राज और हैदरगढ़ का विकास देखना चाहेगी।

क्या कहती है युवाओं की टोली

वर्तमान समय मे युवाओं के दिल प्रिय थाना,कोतवाली से लेकर कोर्ट तक अपनी जनता के प्रति प्रेम भाव समर्पित रखते हैं आलोक तिवारी,इस लिए सभी प्रत्याशियों में प्रवल दावेदारों में है हम ऐसे अपने युवा नेता को नही छोड़ सकते हैं आशीष,गौरव तिवारी,अक्षय पाठक,दिलशान,शिवम, उत्तम,विकास,वैभव, और अन्य युवा।

खबर अच्छी लगे तो शेयर जरूर करें।🙏 कॉपी पेस्ट न करें।।।।जातीय मतों के आंकड़े पिछले निकाय चुनाव से सम्बंधित हैं ,।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here