लोहटी जई के दर्जनों ग्रामीणों ने जनसुनवाई पोर्टल पर बाढ़ राहत सामग्री ना बांटने की मुख्यमंत्री से की शिकायत

0
74

एडिटर कृष्ण कुमार शुक्ल रामनगर बाराबंकी।घाघरा नदी की बाढ़ से प्रभावित ग्राम लोहटी जई के ग्रामीणों ने उप जिलाधिकारी तान्या को प्रार्थना पत्र देकर बाढ़ राहत सामग्री वितरित कराने की मांग की है।रामकुमार दिनेश रामजी श्याम जी कमलेश अभिषेक कृष्ण मुरारी नीरज विष्णु रीना श्यामा देवी अनीता रिचा पंचम कृष्णा देवी लज्जावती नंदकिशोर नेहा सुनीता फूलमती आदि ग्रामीणों ने तहसील मुख्यालय पहुंच कर एसडीएम को पत्र देकर राहत सामग्री की मांग की।चूंकि इसी ग्रामसभा के अन्य मजरों केशियापुर मथुरा पुरवा में ग्रामीणों की मांग पर राहत सामग्री वितरित गई है।और लोहटी जई के लोग भी उसी तरह बाढ़ के पानी से प्रभावित हुए है। उपजिलाधिकारी द्वारा सामग्री उपलब्ध कराने से मना करने पर ग्रामीणों ने जन सुनवाई पोर्टल के माध्यम से मुख्यमंत्री से राहत सामग्री वितरित कराने की मांग की है।
*नहीं बांटी गई बाढ़ राहत सामग्री तहसील प्रशासन द्वारा किया जा रहा छलावा*
लोहटी जई में घाघरा नदी के बढ़ने से भीषण बाढ़ आ गई थी गणेशपुर जाने वाले मुख्य मार्ग पर बाढ़ का पानी चलने लगा था यातायात बाधित हो गया था ग्रामसभा के मार्ग डूब गए थे जनता त्राहि-त्राहि करने लगी थी मीडिया में खबरें प्रकाशित होने लगी सरकार के द्वारा मुफ्त में बाढ़ राहत सामग्री वितरित की जाने लगी आसपास के दर्जनों गांवों में बाढ़ राहत सामग्री वितरित की गई। वही केशियापुर मजरे लोहटी जई के ग्रामीणों ने एसडीएम को दो बार प्रार्थना पत्र दिया और तहसील घेराव किया अनशन किया तब जाकर बाढ़ राहत सामग्री दो पुरवा में बांटी गई है। मुख्य ग्राम लोहटी जई है इसके अंतर्गत पांच मजरे आते है केशियापुर मथुरापुरवा लोहटी पसई मोतीपुरवा रेलीबाजार और सिर्फ केवल दो पुरवा में ही बाढ़ राहत सामग्री बांटी गई है। आज गुरुवार को लोहटी जई के दर्जनों ग्रामीणों ने राम कुमार मिश्रा पुत्र स्वर्गीय रामनाथ मिश्रा उम्र 72 वर्ष इनकी अगुवाई में दर्जनों ग्रामीण तहसील पहुंचे और बाढ़ राहत सामग्री वितरित किए जाने के संबंध में एसडीएम को प्रार्थना पत्र दिया एसडीएम ने साफ मना कर दिया कि आपका गांव बाढ़ क्षेत्र में नहीं आता है ।जबकि कमर कमर पानी ग्राम सभा में भरा हुआ था और जहां बाढ़ राहत सामग्री वितरित की जाती है बाढ़ केंद्र में वहां तक बाढ़ का पानी पहुंच गया और पूरा मार्ग बंद हो गया था 4 दिन तक बाढ़ का पानी भरा रहा यह कई ग्रामीणों का कहना है। ग्रामीण राम कुमार मिश्रा ने जनसुनवाई समन्वित शिकायत निवारण प्रणाली उत्तर प्रदेश पर शिकायत की है। उन्होंने बताया कि एसडीएम ने साफ मना कर दिया इसलिए हम मुख्यमंत्री से बाढ़ राहत सामग्री ना बाटने की शिकायत कर रहे हैं ऑनलाइन। आपको अवगत करा दें बाढ़ क्षेत्र घोषित करने के संबंध में लोहटी पसई के दर्जनों ग्रामीणों ने इसके पहले भी प्रार्थना पत्र दिया है फिर भी तहसील प्रशासन द्वारा बाढ़ क्षेत्र नहीं घोषित किया गया है जबकि गांव में जब बाढ़ आती है तब पानी गांव के घरों में पहुंच जाता है।इस संबंध में एसडीएम रामनगर को फोन मिलाया गया तो उन्होंने अपना फोन उठाना मुनासिब नहीं समझा।इस संबंध में तहसीलदार कविता सिंह ने बताया कि जिस गांव में नाव चली है उस गांव में बाढ़ राहत सामग्री वितरित की गई हमने केशियापुर मथुरा पुरवा में राहत सामग्री बाटी है वहां पर नाव भी दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here