खंड विकास अधिकारी ने दिया त्यागपत्र अपर मुख्य सचिव ने ग्राम विकास आयुक्त को सौंपी जांच

0
369

रामनगर/बाराबंकी

रिपोर्ट/कृष्ण कुमार शुक्ला/विवेक शुक्ला

खंड विकास अधिकारी अमित त्रिपाठी के त्यागपत्र देने के बाद क्षेत्र में चर्चाएं गर्म!उत्पीड़न को लेकर ग्राम प्रधान व ब्लॉक के अधिकारियों व कर्मचारियों में जिला स्तरीय अधिकारियों के खिलाफ दिखा आक्रोश ,जिला स्तरीय अधिकारियों के उत्पीड़न को लेकर खंड विकास अधिकारी रामनगर के द्वारा दिए गए त्यागपत्र को गंभीरता से लेते हुए अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह ने ग्राम विकास आयुक्त को जांच के आदेश दिए।
ज्ञात हो कि खंड विकास अधिकारी रामनगर अमित कुमार त्रिपाठी ने दिनांक 2 अगस्त 2022 को मुख्य विकास अधिकारी व जिलाधिकारी द्वारा मानसिक रूप से अत्याधिक प्रताड़ित करने अपमानित करने एवं परेशान करने से आहत होकर त्यागपत्र दिया। लगातार उच्च अधिकारियों की प्रताड़ना से खंड विकास अधिकारी सहित पूरा परिवार मानसिक रूप से आहत है। प्रताड़ना का आरोप लगाते हुए त्यागपत्र में कहा गया कि 1 जुलाई 20 22 को रामनगर से विकासखंड पूरे डलाई स्थानांतरण कर दिया गया था। तत्काल वहां का चार्ज भी प्राप्त कर लिया गया। सांसद सहित अन्य जनप्रतिनिधियों की मांग पर जिलाधिकारी ने 8 जुलाई को पुनः रामनगर स्थानांतरण कर दिया। जिलाधिकारी कैंप कार्यालय आवास पर मुझे बुलाकर अत्याधिक अपमानित करते हुए आगे अंजाम भुगतने की धमकी दी गई। लगातार क्षमा प्रार्थना करने पर भी धमकी देते रहे। इसमें मेरा क्या दोष है।
दिनांक 30 जुलाई 2022 को जिला स्तरीय अधिकारियों ने विकासखंड रामनगर का आकस्मिक निरीक्षण किया। उस दिन 102.5F बुखार होने के चलते आने में असमर्थ था। फिर भी उच्च अधिकारियों के दबाव के चलते 2 से 3 घंटे विकास खंड कार्यालय बुलाकर मानसिक रूप से उत्पीड़न किया गया। अप्रैल माह से मेरे द्वारा वित्तीय वर्ष 2021- 22 की परफारमेंस सीट दी गई।शासनादेश नियम एवं कानून के पालन का दायित्व खंड विकास अधिकारी एवं निम्न स्तरीय अधिकारियों का है। विगत कई माह से मुझे पीड़ा दी जा रही है पिछले 1 माह से अत्यधिक परेशान करने पर मजबूरन त्यागपत्र दे रहा हूँ। त्यागपत्र स्वीकार करते हुए उच्च स्तरीय जांच किये जाने का भी निवेदन किया गया।
त्यागपत्र देते ही जिले से लेकर प्रदेश स्तर के आला अधिकारी खंड विकास अधिकारी को मनाने में लग गए। घंटों जिले पर चली वार्ता के उपरांत खंड विकास अधिकारी अमित कुमार त्रिपाठी ने बृहस्पतिवार को खंड विकास कार्यालय रामनगर पहुंचकर सचिवों के साथ बैठक करते हुए विकास कार्यों में तेजी लाने के दिशा निर्देश दिए।

खंड विकास अधिकारी के द्वारा दिए गए इस्तीफा के संबंध में जिलाधिकारी ने प्रेस नोट किया जारी

खंड विकास अधिकारी के उत्पीड़न में दिए गए इस्तीफा के संबंध में जिला अधिकारी ने प्रेस नोट जारी करते हुए कहा कि कतिपय अखबारों एवं सोशल मीडिया साइट्स पर खंड विकास अधिकारी रामनगर अमित त्रिपाठी द्वारा दिनांक 2 अगस्त को तथाकथित रूप से जारी किये गए त्याग पत्र एवं दिंनाक 3 अगस्त को उस त्याग पत्र को वापस लेने की खबर प्रकाशित हो रही है. हालाँकि यह पत्र मूल रूप से अब तक प्राप्त नहीं हुए हैं, किन्तु श्री त्रिपाठी द्वारा व्हाट्सप्प के माध्यम से प्रेषित किये गए हैं. पत्र में लगाए गए आरोप बेबुनियाद एवं निराधार हैं. गत दिनांक 30 जुलाई को जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी, जिला विकास अधिकारी, पी डी,डीआरडीए, डी सी मनरेगा द्वारा अन्य अधिकारियों के साथ विकास खंड रामनगर कार्यालय एवं स्थलीय कार्यों का निरीक्षण किया गया, जिसमे कतिपय खामियां/ वित्तीय अनियमित्तायें पायी गयी,तथा जिस सम्बन्ध में अग्रेतर कार्यवाही करते हुए शासन को भी आख्या प्रेषित की गयी है. शासन के निर्देशों के क्रम में समय समय पर सरकारी कार्यालयों एवं स्थलीय कार्यों का निरीक्षण तथा भौतिक सत्यापन करना उच्च अधिकारियों का दायित्व है. इसी कड़ी में पिछले कुछ महीनों में जिलाधिकारी तथा मुख्य विकास अधिकारी द्वारा तहसीलों, विकास खंड कार्यालयों तथा अन्य कार्यालयों का निरिक्षण किया गया है. उसी कड़ी में दिनांक 30 जुलाई को विकास खंड रामनगर का भी निरीक्षण किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here