प्रसिद्ध लोधेश्वर महादेवा मंदिर के आगामी सावन मेला की नही की गई तैयारियां

0
268

 

 

 

  • सावन मेला के 9 दिन बाकी इंतजाम आधे अधूरे गंदगी का साम्राज्य, पेयजल व्यवस्था धूमिल

रिपोर्ट:एडिटर कृष्ण कुमार शुक्ल रामनगर बाराबंकी। जनपद बाराबंकी की तहसील रामनगर व ब्लॉक सूरतगंज में स्थित लोधेश्वर धाम महादेवा शिव मंदिर में आगामी सावन मेला आने को है परंतु मठ रिसीवर व तहसील प्रशासन द्वारा अभी तक मेले की तैयारियां नहीं की गई। लोधेश्वर महादेवा मंदिर के मठ रिसीवर हरिप्रसाद द्वारा सावन मेला की व्यवस्थाओं को लेकर पत्र लिखकर डीएम आदर्श सिंह को दिया गया है।लोधेश्वर धाम के पूरे प्रांगण में गंदगी का साम्राज्य फैला हुआ है, कूड़े के ढेर पड़े हुए है।अभरन सरोवर बोहनिया तालाब गंदा पड़ा हुआ है। पेयजल की व्यवस्था धूमिल साबित हो रही है, आए दिन हैंड पंप खराब पड़े रहते हैं।गर्मियों में शीतल जल वाली टंकी आरो प्लांट अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है। पूर्व सांसद प्रियंका सिंह रावत द्वारा बनाया गया रैन बसेरा भी अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है,उसी के पास बने सामुदायिक शौचालय भी गंदगी के सैलाब में देखा जा सकता है कोई भी कर्मचारी साफ सफाई के लिए शौचालय पर तैनात नहीं किया गया।और तो और लोधेश्वर धाम में जो पानी पीने के लिए नल की टोटी लगाई गई थी उसमें आप गंदगी मसाले की पीच देख सकते हैं सालों हो गए हैं लेकिन अभी तक उसको दुरुस्त नहीं किया गया है। मेला सावन का शुरू होने वाला है लेकिन तैयारियां नाकाफी साबित हो रही हैं। सावन मेला शुरू होने में 9 दिन बाकी है इंतजाम सारे नदारद दिख रहे हैं। महादेवा मेला में सफाई, रंगाई पुताई, पेयजल व्यवस्था, प्रकाश की व्यवस्था बैरिकेडिंग को लेकर अभी तक कोई तैयारी नहीं की गई है। लोधेश्वर महादेवा के महाभारत कालीन तीर्थ स्थल पर लाखों श्रद्धालु सावन माह में दर्शन करने कांवर लेकर नंगे पैर पग यात्रा कर दर्शन करने पहुंचते है।भगवान भोलेनाथ के सावन मेला का अपना अलग ही महत्व होता है। सावन का प्रथम सोमवार 18 जुलाई व द्वितीय सोमवार 25 जुलाई व तृतीय सोमवार 1अगस्त और चतुर्थ सोमवार 8 अगस्त को पड़ेगा।चारों सोमवार को सावन मेले में लाखों शिव भक्त बाराबंकी के रामनगर महादेवा पहुंचकर लोधेश्वर शिवलिंग पर जलाअभिषेक कर विल्व पत्र फूल माला दान दक्षिणा चढ़ाकर मनवांछित फल प्राप्त करते है। प्रत्येक सावन मेले में दूरदराज से शिव भक्त गण दर्शन करने आते हैं ,जैसे लखनऊ, कानपुर, कन्नौज, इटावा ,जालौन, बिठूर, हमीरपुर, बांदा, गोंडा, बहराइच, इलाहाबाद ,फैजाबाद, अयोध्या आदि कई राज्यों से भक्त दर्शन करने बाराबंकी के लोधेश्वर धाम पहुंचते हैं।महादेवा के लोधेश्वर धाम में प्रत्येक वर्ष में चार मेले लगते हैं। जिनका आयोजन शासन-प्रशासन मठ रिसीवर की देखरेख में किया जाता है। इनमें से प्रथम फाल्गुनी का मेला, द्वितीय कजरी तीज का मेला, तृतीय अगहनी का मेला व चतुर्थ सावन का मेला होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here