विधवा महिला ने लगाया आरोप सचिव को पैसा देने के बाद भी नही मिला पति का मृतक प्रमाण पत्र

0
189

सूरतगंज/बाराबंकी

रिपोर्ट/कृष्ण कुमार शुक्ल/विवेक शुक्ल

देश के प्रधानमंत्री और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री महंत योगी आदित्यनाथ रामराज्य लाने के प्रयास में दिन रात एक किए हैं।परंतु कुछ सरकारी कारिंदे सरकार की एक मानने को तैयार नहीं हैं।जहां एक ओर सरकार ग्राम पंचायतों को मन मुताबिक धन देकर विकास में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रही है।वहीं ब्लॉक के ऐसे संबंधित अधिकारी सरकारी धन को चूना लगाने में जरा भी गुरेज नहीं करते।अब सवाल यह है कि इन्हीं अधिकारियों के पास बच्चों के जन्म व्यक्तियों के मृत्यु और विवाह के उपरांत महिलाओं का भी नाम परिवार रजिस्टर में दर्ज करने का अधिकार प्राप्त है। किसी भी गरीब असहाय महिला पुरुष के घर में यदि बच्चा जन्म ले या किसी की मृत्यु हो जाए उसी स्थिति में जब कोई व्यक्ति इनके पास नाम दर्ज करवाने जन्म या मृत प्रमाण पत्र लेने पहुंचता है तो उससे रुपयों की मांग की जाती है।रुपए ना देने पर उसे महीनों और सालों लौटाया जाता है। जिसका जीता जागता एक मामला विकासखंड सूरतगंज के ग्राम पंचायत मोहडवा से प्रकाश में आया है इसी गांव निवासिनी बेवा फूलमती पत्नी स्व0 रामगोपाल ने आरोप लगाते हुए बताया कि पंचायत में कार्यरत ग्राम पंचायत अधिकारी रोहित कुमार वर्मा ने उनके स्वर्गीय पति के मृतक प्रमाण पत्र जारी करने के लिए 900/रुपए लेने के बाद भी मृतक प्रमाण पत्र जारी नहीं किया।कई बार ब्लॉक के चक्कर काटने के बाद जब पीड़िता की मुलाकात ग्राम पंचायत अधिकारी रोहित वर्मा से हुई तो उन्होंने कहा आपके पति का नाम परिवार रजिस्टर में दर्ज नहीं है इसलिए 1200 रुपए और देने पर मृत प्रमाण जारी हो सकेगा।जिस पर पीड़ित बेवा महिला ने अपनी गरीबी का हवाला देते हुए पैसे देने में असमर्थता जताई तो आज तक पीड़िता के यह पति का ना तो परिवार रजिस्टर में नाम दर्ज हुआ और ना ही मृत सर्टिफिकेट जारी हुआ।गरीब विधवा पीड़िता अपने पति के मृत सर्टिफिकेट के लिए दर-दर भटक रही है।अब देखना यह है क्या पीड़ित विधवा को न्याय मिल पाता है या संबंधित अधिकारी मामले को ठंडे बस्ते में डाल देंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here