कस्बा रामनगर में शैक्षिक संगोष्ठी एवं शिक्षक अलंकरण समारोह का किया गया आयोजन

0
65

रामनगर/बाराबंकी

रिपोर्ट/कृष्ण कुमार शुक्ल/विवेक शुक्ल

कस्बा रामनगर में शैक्षिक संगोष्ठी एवं शिक्षक अलंकरण समारोह का आयोजन किया गया।
कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि प्रमुख संजय तिवारी एवं उप जिलाधिकारी तान्या ने मां सरस्वती के चित्र पर संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित करके एवं माला पहनाकर किया।वही शिक्षक संघ के पदाधिकारियों ने ब्लॉक प्रमुख संजय तिवारी एवं उप जिलाधिकारी को प्रतीक चिह्न एवं अंग वस्त्र भेंट कर सम्मानित किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि ब्लॉक प्रमुख संजय तिवारी ने कहा की शिक्षक कभी सेवानिवृत्त नहीं होता बल्कि और शासकीय सेवाओं से मुक्त होने के बाद समाज को एक नई दिशा देने का कार्य करता है।आगे कहा कि शिक्षक वह चिराग होता है। जो स्वयं जलकर दूसरों की जिंदगी को प्रकाशमान बनाने का काम करता है। इस दुनिया में माता-पिता के बाद सबसे बड़ा दर्जा गुरु का ही होता है। शिक्षक बहुत सम्मानित पद होता है,बच्चा जब पढ़ लिखकर आगे बढ़ता है तो गांव समाज और माता-पिता के साथ-साथ गुरु का भी नाम रोशन करता है। ब्लाक प्रमुख श्री तिवारी ने सेवानिवृत्त हुए शिक्षकों से अपील करते हुए कहा कि आप लोग सरकारी सेवा से रिटायर हुए हैं।लेकिन अपने ज्ञान और जीवन के अनुभव से युवा पीढ़ी को शिक्षित और संस्कारवान बनाने का कार्य करते रहें,क्योंकि मानव जीवन में शिक्षा का बहुत बड़ा महत्व है। शिक्षा के बगैर जीवन अधूरा है,और पढ़ा लिखा व्यक्ति देश और राष्ट्र के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे सकता। कार्यक्रम में उपस्थित अध्यापकों से रूबरू होते हुए कहां की देश और प्रदेश की भाजपा सरकार के द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में तमाम क्रांतिकारी कदम उठाए गए हैं शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए हर स्तर पर काम किया जा रहा है। मिशन कायाकल्प के तहत गांवों में स्थित विद्यालयों की सूरत बदलने का काम भाजपा सरकार ने किया,l.इसलिए आप सभी लोगों के नैतिक जिम्मेदारी है कि पूरी ईमानदारी से अपने दायित्वों का निर्वहन करते हुए नौनिहाल बच्चों को गुणवत्तापूर्ण और बेहतर शिक्षा देने का कार्य करें! क्योंकि आज के नन्हे मुन्ने बच्चे ही देश का भविष्य है।
उप जिलाधिकारी रामनगर तान्या ने अपने संबोधन में कहा कि समाज के निर्माण में शिक्षकों की अहम भूमिका होती है। अध्यापक का दर्जा भगवान के बराबर होता है। कोई भी व्यक्ति पढ़ने लिखने के बाद चाहे जिस पद पर पहुंचे लेकिन अपने शिक्षकों को कोई नहीं भूलता है। उन्होंने कहा कि बच्चों के जीवन को बदलने की जिम्मेदारी अध्यापक के कंधों पर रहती है। यह एक बड़ा भार है। सेवानिवृत्त हुए अध्यापकों ने अपने सेवाकाल में यह जिम्मेदारी अवश्य निभाई होगी।
खंड शिक्षा अधिकारी संजय राय ने आए हुए अतिथियों के प्रति धन्यवाद ज्ञापित करते हुए उपस्थित अध्यापकों से सेवानिवृत्त हुए शिक्षकों से प्रेरणा लेकर कार्य करने की अपील की। मुख्य अतिथि ब्लॉक प्रमुख संजय तिवारी विशिष्ट अतिथि उप जिलाधिकारी सुश्री तान्या एवं खंड शिक्षा अधिकारी संजय राय ने सेवानिवृत्त हुए अध्यापकों को अंग वस्त्र रामायण पुस्तक एवं प्रतीक चिन्ह देकर व माला पहनाकर सम्मानित किया।
इस मौके पर उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ के जिला अध्यक्ष डॉ राकेश सिंह जिला मंत्री उमा नाथ मिश्रा जिला उपाध्यक्ष चंद्रप्रकाश श्रीवास्तव जिला उपाध्यक्ष डॉ आलोक शुक्ला, श्याम किशोर बाजपेई, विजय बहादुर सिंह, जिला कोषाध्यक्ष राजेश श्रीवास्तव, ब्लॉक अध्यक्ष बाबू हनुमंत अवस्थी, ब्लॉक मंत्री पवन कुमार मिश्रा कोषाध्यक्ष मोहम्मद राशिद सिद्दीकी वरिष्ठ उपाध्यक्ष अयोध्या प्रसाद, देश दीपक शुक्ला सहित भारी संख्या में अध्यापक एवं अध्यापिकाएं उपस्थित थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here