ग्राम इब्राहिमपुर में अखिल भारतीय विराट कवि सम्मेलन का हुआ आयोजन

0
121

रामनगर/बाराबंकी

रिपोर्ट/कृष्ण कुमार शुक्ल/विवेक शुक्ल

रामनगर तहसील के अंतर्गत विकासखंड सूरतगंज के ग्राम इब्राहिमपुर में पूर्व प्रधान पंडित राम किशोर मिश्र की प्रथम पुण्यतिथि के अवसर पर क्षेत्र पंचायत सदस्य प्रतिनिधि मनोज मिश्र ‘शीत’के आयोजन में अखिल भारतीय विराट कवि सम्मेलन इब्राहिमपुर के रामलीला मैदान में आयोजित हुआ । कवि सम्मेलन का शुभारंभ मुख्य अतिथि निवर्तमान विधायक शरद कुमार अवस्थी व विशिष्ट अतिथि ब्लाक प्रमुख रामनगर संजय तिवारी ,ब्लाक प्रमुख सूरतगंज लकी सिंह के द्वारा मां वागीश्वरी का दीप प्रज्ज्वलन व माल्यार्पण कर किया। कवि सम्मेलन के आयोजक मनोज मिश्रा व स्व. राम किशोर मिश्र के सुपुत्र अखिलेश मिश्रा,डब्लू मिश्र, सोनू मिश्रा, आदि के द्वारा आए हुए अतिथियों व कवियों का माल्यार्पण कर स्वागत किया तथा अंग वस्त्र भेंटकर सम्मानित किया।
कवि सम्मेलन का शुभारंभ लखनऊ से पधारी कवियत्री शशि श्रेया की कविता -“शारदे शारदे शारदे, लेखनी में प्रबल धार दे” से हुआ।
डॉ. शर्मेश ने पढा-” योगी मोर हितेैषी हमका का चिंता ,चिंतक ऐसी की तैसी हमका का चिंता”
कवि प्रदीप महाजन ने पढा- “राजनीति का पर्दा आंखों पर पड़ जाए तो, गधा बाप को और गधे को बाप बताना पड़ता है”।
जगन्नाथ निर्दोष ने पंक्तियां पढ़ी – “बुलडोजर कहर मचाए है, अपराधिन अत्याचारिन के ऊपर यू गाज गिराए है”।
कवि राम किशोर तिवारी ने कविता पढ़ते हुए कहा- “वंदे मातरम कहना भी जहां अपराध हो, ऐसा कुछ चिंतन नकारा जाना चाहिए”।अजय प्रधान की पंक्तियां -“मिला दोबारा अवसर है कुछ ऐसा कर दो बाबा, फिर से कोई नेहा ना पूछे यूपी में काबा” को खूब सराहा गया।

ओम शर्मा ओम ने बालिकाओं की प्रति सोच पर करारा व्यंग करते हुए कहा – “हालात से मजबूर हैं अनजान नहीं है, यह लड़कियां हैं खेल का सामान नहीं है”।
बाल विवाह से संबंधित अंकिता शुक्ला ने गीत पढा- “बाबा मत करियो हमरा विवाह उमरिया अबही बचपन की”

कवि मनोज मिश्र ने पढा – “राजनीति जब अंधी बहरी हो जाए, कवियों को तब कलम उठाना पड़ता है”।
लखनऊ से पधारी कवियत्री शशिश्रेया ने गीत पढते हुए कहा -“जीत लेगा जिंदगी की जंग वो हर हाल में, जिसको सारे दर्द सहकर मुस्कुराना आ गया”।
कवि शिव कुमार व्यास ने – “अगर पुस्तक है कविता की तो मुक्तक छंद भी होंगे”।कवियों ने अपनी रचनाओं से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया और अपनी रचनाएं सुनाकर खूब तालियां भी बटोरी। कार्यक्रम भोर तीन बजे तक चलता रहा।इस अवसर पर शारदा प्रसाद अवस्थी प्रधान मथुरा ,उमेश मिश्र प्रधान इब्राहिमपुर ,प्रधान गायघाट सहित सैकड़ों लोग उपस्थित थे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here