ग्राम मड़ना में लाल बहादुर शास्त्री गन्ना किसान संस्थान लखनऊ द्वारा राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के अंतर्गत कृषक प्रशिक्षण गोष्ठी कार्यक्रम का आयोजन किया गया

0
245

रामनगर/बाराबंकी

रिपोर्ट/कृष्ण कुमार शुक्ल


गन्ना विकास परिषद बुढ़वल क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम मड़ना में लाल बहादुर शास्त्री गन्ना किसान संस्थान लखनऊ द्वारा राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के अंतर्गत कृषक प्रशिक्षण गोष्ठी कार्यक्रम का आयोजन किया गया।गोष्ठी में संस्थान के पूर्व प्रशिक्षक पी सी सोनी ने गन्ना बुवाई हेतु एक आँख के गन्ने से शरदकालीन गन्ना बुवाई के साथ सहफसली खेती को अपनाकर गन्ना बुवाई करने की सलाह दी।इसी क्रम में गन्ना संस्थान के विषय विशेषज्ञ अरुण कुमार ने कहा कि नैनो यूरिया न केवल सस्ता है बल्कि अच्छा भी है।सामान्य यूरिया को पौधे 35 से 40 प्रतिशत ही ले पाते हैं जबकि नैनो यूरिया का 65 से 70 प्रतिशत उपभोग पौधे कर लेते हैं। नैनो यूरिया को ब्यात की अवस्था व बढ़वार की अवस्था में दो बार फसल पर स्प्रे के माध्यम से प्रयोग करें।500 ग्राम नैनो यूरिया को 125 ली पानी में मिलाकर प्रति एकड़ के हिसाब से प्रयोग करें।वहीं आई आई एस आर के वैज्ञानिक डॉ रामरतन वर्मा ने कहा कि मिट्टी की जांच के अनुरूप खाद उर्वरक डाल कर कम लागत में अधिक उत्पादन लिया जा सकता है।इसके लिए किसान भाई हर साल अपने अपने खेत की मिट्टी की जांच जरूर कराएं।चीनी मिल रौजागांव के वरिष्ठ गन्ना विकास अधिकारी इन्द्रजीत ने कहा कि गन्ना उत्पादन को बढ़ाने के लिये चीनी मिल गन्ना किसानों को गन्ना बीज कृषि यंत्रों एवं दवाओं पर विशेष अनुदान भी दे रही है।गन्ना परिषद के ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक दिलीप सिंह ने बताया कि 20 अप्रैल से गन्ना सर्वेक्षण कार्य प्रारंभ हो चुका है जो 20 जून तक चलेगा।सभी किसानों से अनुरोध है कि सर्वेक्षण में सहयोग के साथ ही घोषणा पत्र भरकर अनिवार्य रूप से उपलब्ध कराएं।गन्ना विकास निरीक्षक रंजय जायसवाल एवं चीनी मिल कर्मचारियों के साथ ही गोष्ठी में बड़ी संख्या में लहड़रा बलिदान पुरवा आदि ग्राम के किसानों ने भाग लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here