शाहजहांपुर: नाबालिक चला रहे हैं ऑटो रिक्शा प्रशासन बेखबर

0
164

ब्यूरो रिपोर्ट:-अनुराग मिश्र राजू

शाहजहाँपुर:सावधान नाबालिगों के हाथों में ई रिक्शा की स्टेरिंग,अपनी जान स्वयं बचाना नाबालिगों से यदि बड़ी दुर्घटना घट जाती है तो इसके लिए कौन जिम्मेदार कौन होगा पुलिस या परिवहन विभाग अथवा इन चालको के परिजन सड़क पार कर रही वृद्ध महिला के नाबालिग ई रिक्शा चालक ने मारी टक्कर गंभीर हालत में शाहजहाँपुर अस्पताल में भर्ती चार दिन में हुआ लाखो का बिल ,गरीब आदमी कहाँ से लाये इतना रुपयाशाहजहाँपुर(जलालाबाद)प्रदूषण कम करने और रोजगार देने के लिए ई-रिक्शा का संचालन शुरू किया गया था. वहीं, अब ई-रिक्शा परेशानी का कारण बनने लगे है।
सावधान एक जगह से दूसरी जगह जाने वाले लोग व सड़क पर चलने बाले संभलकर यात्रा करें। नाबालिग चालकों के हाथ में ई रिक्शा की स्टेरिंग है। ये नाबालिग चालक सवारी की जान की परवाह किए बिना कान में हेडफोन लगाकर अथवा मोबाइल पर बात करते हुए एक पैर ऊपर रखकर वाहन चलाते हुए देखे जा सकते हैं।इनसे सवारियों सहित सड़क पर चलने वालों को भी जान का खतरा है।
इन्हें परिवहन विभाग अथवा पुलिस प्रशासन के नियम या कानून का कोई भय नहीं है। इन्हें न तो परिवहन विभाग अथवा जिला प्रशासन द्वारा बनाए गए किसी नियम से कोई लेना देना है, जबकि राज्य सरकार के परिवहन विभाग द्वारा18 वर्ष से कम उम्र वालों के वाहन चलाने पर 25 हजार रुपये जुर्माना का प्रविधान है। साथ ही जिस व्यक्ति को ई-रिक्शा का लाइसेंस जारी किया जाएगा, वही उसे चला सकता है. अगर लाइसेंसधारक के अलावा कोई दूसरा व्यक्ति ई-रिक्शा चलाता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
इसके बावजूद प्रशासन इन नाबालिग चालकों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है। जिसके कारण नाबालिग चालकों की संख्या बढ़ती जा रही है।
दिनांक 19 मार्च को पुरैना मोड़ के पास सड़क किनारे खड़ी एक वृद्ध महिला रामश्री पत्नी ज्योति प्रसाद निवासी पुरैना को नाबालिग हर्षित पुत्र अखिलेश निवासी नया गॉव(उबरिया)द्वारा चलाये जा रहे ई रिक्शा ने टक्कर मार दी।जिसके कारण उनको गंभीर हालात शाहजहाँपुर अस्पताल में भर्ती करवाया गया।सरकारी अस्पताल में इलाज न हो पाने के कारण प्राइवेट अस्पताल में भर्ती करवाया ।चार दिन के इलाज में लाखों का खर्च आ गया।अब गरीब आदमी इलाज में लगें रुपया कहाँ से लेकर आये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here