देवी शरण स्मारक युवा रामलीला समिति द्वारा कार्यक्रम का होगा आयोजन

0
313

सूरतगंज/बाराबंकी

रिपोर्ट/कृष्ण कुमार शुक्ल

ब्लॉक सूरतगंज अंतर्गत कड़ाकापुर से चंद कदमों की दूरी पर ग्राम मधवा जलालपुर में रामलीला कार्यक्रम का दिनांक 19 -3-2022 से लेकर 21- 3 -2022 तक आयोजन किया गया है l
रामलीला कमेटी का कहना है कि समस्त क्षेत्रवासियों तथा ग्राम वासियों की उपस्थिति प्रार्थनीय है।भव्य रामलीला कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है और भगवान श्री रामचंद्र का जन्म होता है विश्वामित्र दशरथ दरबार में पहुंच कर राम लक्ष्मण को‌ साथ में ले लेते हैं फिर जाकर भयंकर ताड़का नामक राक्षसी का वध कर देते हैं।फिर राजा जनक प्रतिज्ञा करते हैं कि जो इस शिव धनुष को उठाएगा वहीं सीता जी से नाता जोड़ेगा।सीता स्वयंवर में अनेक राजा महराजाओं ने भाग लिया। मर्यादा पुरुषोत्तम श्री रामचंद्र ने धनुष तोड़ कर सीता से विवाह कर लिया।धनुष टूटने की खबर जैसे ही परशुरामजी को मिलती है।परशुराम जी सीता स्वयंवर में उग्र स्वभाव से गुस्से मे उपस्थित हो जाते हैं।क्योंकि भगवान परशुराम विष्णु जी के अवतार थे और वह भगवान शिव जी के परम भक्त थे और जो धनुष स्वयंवर में टूटा था वह धनुष भगवान शिव ने अपने भक्त परशुराम को प्रसन्न होकर दिया था।परशुराम जी ने जब अस्त्र शस्त्र त्याग दिया तब उन्होंने महाराज जनक को इस धनुष के लायक समझा तो उन्होंने जनक नरेश को दे दिया। जब धनुष टूटा तो परशुराम जी गुस्से में जनक दरबार मे में क्रोध में सभी राजाओं महाराजाओं को चेतावनी दे डाली कि किसने यह धनुष तोड़ा है जिसने भी तोड़ा है मेरे सामने आओ नहीं तो पूरी जनक की नगरी को भस्म करके खत्म कर दूंगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here