लोधेश्वर महादेवा में लगा गंदगी का अंबार,पेयजल व्यवस्था लाचार

0
562

रामनगर/बाराबंकी

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले की रामनगर तहसील के सुप्रसिद्ध लोधेश्वर महादेवा के पावन शिव धाम मे साफ सफाई का अभाव और पेयजल व प्रकाश की व्यवस्थाये घोर अनिमितताओ के दौर से गुजर रही है।लेकिन यहा के प्रति तैनात जिम्मेदार अधिकारियो की गांधारी नजरो से ओझल है।यह बात अलग है कि माह भर चलने वाले फाल्गुनी महोत्सव की आहट भी अब सुनाई देने लगी है।ज्ञात हो कि उत्तर भारत का प्रसिद्ध तीर्थ स्थल लोधेश्वर महादेवा में आज कल अव्यवस्थाओ के दौर से गुजर रहा है। प्रसिद्ध मंदिर के ठीक सामने लगी पानी की टंकी इण्डिया मार्का हैण्डपम्प और पूर्व सांसद प्रियंका रावत के समय लगा आरो केवल मात्र शो पीस बना हुआ है। कहने को तो श्रद्धालुओं के लिए आरो का पानी पीने की व्यवस्था है, वह बात और कि आज तक आरो चल ही नही सका।प्रकाश के लिये रहनुमाओ की निधियो से लगाये गये अधिकतर सोलर हाईडो्जन लाईटे चंद माह दिनो मे खराब होकर व्यवस्था का रोना रो रही है।अभी कुछ दिन पहले बिहार के महामहिम राज्यपाल महोदय भोलेनाथ के दरबार मे आये थे।उन्हे लघु शंका जाने के लिये संस्कृत विद्मायल मे जाना पड़ा था।यहा का यह हाल तब है जब प्रदेश सरकार के मुखिया योगी आदित्यनाथ दो बार बतौर मुख्यमंत्री अपनी हाजिरी लगा चुके है,और यहा के सर्वागीण विकास का वादा भी किया था।बताते चले हजारों की संख्या में प्रतिदिन दर्शनार्थी दर्शन के लिये यहा आते हैं मेला परिक्षेत्र में गली कूचे सड़कों के किनारे व मंदिर प्रांगण के आसपास बेशुमार गंदगी को देखकर लोग अचंभित हो जाते हैं।क्योंकि लोधेश्वर धाम के नाम से प्रख्यात व श्रद्धालुओं में अटूट विश्वास व श्रद्धा के चलते दिन प्रतिदिन श्रद्धालुओं की भीड़ बनी रहती पर गंदगी को देखकर कोई यह भी कह सकता है कि कई महीनों से यहां कोई सफाई का कार्य नहीं हुआ है।सफाई कर्मचारी दिखाई पड़ता है स्थानीय लोगों का कहना है कि इस क्षेत्र में दो सफाई कर्मी तैनात थे।एक को यहां से हटा कर गांव मे भेज दिया गया।बरसात होने पर सड़क के दोनों तरफ जलभराव हो जाता है जिससे आये दिन कीचड़ व पानी में लोग गिर जाते हैं टिकाऊ विकास कार्य दूर की कौडी है।आज कल शुरु हो विधानसभा चुनाव के चलते फाल्गुनी महोत्सव की तैयारिया जिम्मेदार अधिकारियो की नजरो से ओझल है।भोलेनाथ के दरबार मे पूजन अर्चन एंव जलाभिषेक के लिये नेताओं और अधिकारियो कर्मचारियो का भारी संख्या मे आवागमन होता रहता है।कभी कभी उच्च स्तर से वी वी आई पी लोग भी आ जाते है।जिन्हे स्थानीय स्तर के जिम्मेदार अधिकारियो की खूब आव भगत भी मिलती है।लेकिन पेयजल प्रकाश और साफ सफाई जैसी प्राथमिकताओ पर कोई गौर नही किया जाता है।बडी संख्या क्षेत्र के जागरुक जनो ने पावन दरबार मे अव्यवस्थाओ पर शासन प्रशासन से गौर किये जाने की मांग की है। इसकी खबरें भी कई बार समाचार पत्रों के द्वारा प्रकाशित की जा चुके हैं लेकिन जिम्मेदार देखकर भी अनदेखा कर रहे है।

रिपोर्ट/कृष्ण कुमार शुक्ल/विवेक शुक्ल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here