Saturday, April 20, 2024
HomeLatest Newsदेवनाथ कुटी के बाबा रामदास महाराज ने लोधेश्वर भूमि पर हो रहे...

देवनाथ कुटी के बाबा रामदास महाराज ने लोधेश्वर भूमि पर हो रहे कब्जे पर जताई नाराजगी

 

 

 

         

    देवनाथ कुटी महंत बाबा राम दास की फाइल फोटो

         महादेवा लोधेश्वर ऐतिहासिक शिवलिंग

         रिपोर्ट:वाइस एडिटर के के शुक्ल

नारद संवाद न्यूज रामनगर बाराबंकी।उत्तरप्रदेश के ऐतिहासिक सुप्रसिद्ध तीर्थ स्थल लोधेश्वर महादेवा में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ महादेवा लोधेश्वर धाम पहुंचकर दर्शन कर चुके हैं और चुनाव भी पहली बार लड़़कर मुख्यमंत्री बने उत्तर प्रदेश के तब उन्होंने महादेवा तीर्थ स्थल के विकास की बात की थी लेकिन महादेवा तीर्थ स्थल का विकास अधूरा है। सरकार व तहसील प्रशासन जिला प्रशासन के द्वारा ध्यान ना देने से धीरेे-धीरे भूमाफियाओं के कब्जे से मेला क्षेत्र सिकुड़ता जा रहा है। मुद्दे की बात तो यह है कि यहां ग्रामसमाज की बेशकीमती जमीन पर कब्जा करने वाले अतिक्रमणकारियों के प्रति कोई ठोस कार्यवाही जिला प्रशासन तहसील प्रशासन व स्थानीय पुलिस के द्वारा नहीं की जा रही जिसको लेकर क्षेत्र के लोगों में शासन प्रशासन के प्रति रोष व्याप्त है। लोधेश्वर धाम महादेवा में स्थित देवनाथ कुटी पर 25 वर्षों से देखरेख कर रहे बाबा रामदास महाराज का आरोप है कि तस्कर व भू माफियाओं पर त्वरित कार्यवाही करने वाली भाजपा सरकार में तीर्थ स्थल लोधेश्वर महादेवा धाम के चारों ओर तस्कर व भू माफियाओं के द्वारा लगातार ग्राम समाज व बंजर सहित मंदिर से जुड़ी हुई भूमि पर अवैध रूप से कब्जा किया जा रहा है। जिसके चलते मेला क्षेत्र का दायरा कम होता जा रहा है। शिवलिंग पर चढ़ने वाला नीर जहां एकत्रित होता है उस भूमि पर भी अवैध रूप से निर्माण कार्य लगातार जारी है। इसकी शिकायत प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ तथा जिले के आला अधिकारियों तक की जा चुकी है। परंतु अभी तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई। बाबा रामदास का यह भी कहना है मंदिर परिसर से निकलकर लंबा पुरवा तक जाने वाली चोर गली पर भी अतिक्रमणकारियों ने कब्जा जमा लिया है जिसके कारण चोर गली का नाम नाम तक ही सीमित रह गया। उनका कहना है कि यहां का नक्शा भी प्रशासन व भू माफियाओं की मिलीभगत से गायब कर दिया गया। लेकिन जल निगम के पास इसका नक्शा अभी भी मौजूद है। जिससे भूमाफियाओं व अतिक्रमणकारियों पर नकेल कसी जा सकती है। उन्होंने बताया विगत वर्ष मंदिर परिसर में पानी भर गया था जिसके निकासी के लिए संबंधित अधिकारियों ने एक नाले के निर्माण के लिए प्रस्ताव पारित किया था लेकिन अतिक्रमणकारियों के द्वारा इस कार्य में भी बाधा डाली गई जिसके चलते नाले का निर्माण अभी तक नहीं हो पाया। प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ लोधेश्वर धाम महादेवा में पहुंचकर पूजा प्रतिष्ठा करने के पश्चात तीर्थ स्थल के सौंदर्यीकरण के लिए कहां था,लेकिन मंदिर का विकास कार्य तो दूर रह गया।यहाँ भूमाफियाओ के द्वारा सरकारी जमीनों पर कब्जा कर अपना विकास करते नजर आ रहे। जागरूक जनों में चर्चा यह है कि आखिर किसके संरक्षण में भू माफिया व तस्कर फल फूल रहे है।

अवैध अतिक्रमण के बारे में उपजिलाधिकारी रामनगर का कहना था जांच कर कार्रवाई की जा रही हैं

जल निकासी के लिए पैमाइश किये गए नाले के बारे में ग्राम प्रधान अजय तिवारी लोधौरा का कहना है कि अभरन तालाब से एक तालाब तक पक्के नाले निर्माण कार्य होना था लेकिन किसी कारणवश नही हो पाया है।

अन्य खबरे

यह भी पढ़े